प्रकाश संश्लेषण क्रिया की महत्वपूर्ण बातें | Photosynthesis in Hindi

Photosynthesis in Hindi

Photosynthesis in Hindi / प्रकाश संश्लेषण एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें पौधे सूर्य के प्रकाश की मौजूदगी में अपने पत्तों और हरे भागों में मौजूद क्लोरोफिल की सहायता से पानी और कार्ब नडाइऑक्साइड को संश्लेषित करके अपने भोजन को तैयार करते है। पानी और कार्बन डाइऑक्साइड कच्चे माल के रूप में उपयोग किए जाते हैं जबकि पेड़-पौधों का यह भोजन सूक्रोज, ग्लूकोज और स्टार्च के रूप में बनता है।

साधारण शब्दों में कहें तो पेड़-पौधों के भोजन बनाने की प्रक्रिया को प्रकाश संश्लेषण या अंग्रेज़ी में फोटोसिन्थेसिस कहते हैं।

प्रकाश संश्लेषण के लिए जरूरी चीजें

हरे पेड़-पौधों को प्रकाश संश्लेषण के लिए निम्नलिखित तीन चीज़ों की जरूरत होती है-

1. सूर्य की रोशनी – जो कि दिन में मिलती है।
2. कार्बन डाइऑक्साइड – जो कि हवा से मिलती है।
3. पानी – ये पौधों की जड़े मिट्टी से प्राप्त करती हैं।

प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया पेड़-पौधों के पत्तों और हरे भागों में होती है। पत्तों में छोटे-छोटे छेद होते हैं जिन्हें Stomata कहते हैं। Stomatas की मदद से ही Carbon dioxide पौधे में दाखिल होती है।

पौधें के Cells में छोटे-छोटे Structures होते है जिन्हें Chloroplast कहते है। Chloroplast में ही Chlorophyll मौजूद होता है।

प्रकाश संश्लेषण क्रिया का रासायनिक सूत्र

prakash sansleshan in hindi

कार्बनडाइ ऑक्साइड के 6 अणु और पानी के 12 अणु पत्तों के अंदर सूर्य की रौशनी और क्लोरोफिल की सहायता से संश्लेषित होते है, अर्थात् रासायनिक क्रिया करते हैं। इस क्रिया में ग्लूकोज का एक अणु, पानी और ऑक्सीजन के 6-6 अणु बनते हैं।

ग्लूकोज पौधे की उर्जा होती है जिसे वो उपयोग कर लेता है और बाकी बची को स्टार्च के रूप में स्टोर करके रख लेता है।

पानी के 6 अणु जो रासायनिक क्रिया द्वारा पैदा होते हैं दोबारा से जैव-रासायनिक प्रतिक्रियाओं में लग जाते हैं।

ऑक्सीजन के 6 अणु Stomata के द्वारा वातावरण में चले जाते हैं। प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया में पैदा हुई यह ऑक्सीजन पानी के अणुओं से बनी होती है कार्बनडाइ ऑक्साइड के अणुओं से नहीं।

प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया का महत्व

अगर हम प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया को दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण जैवरासायनिक अभिक्रिया कह दे तो यह गलत नहीं होगा क्योंकि ये प्रत्यक्ष या परोक्ष तौर पर दुनिया के सभी जीव इसी पर निर्भर हैं।

1. भोजन की प्राप्ति – प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया से पौधों को भोजन प्राप्त होता है, ये तो आप ने जान लिया। लेकिन इससे उन जीवों को भी भोजन प्राप्त होता है जो कि पौधों के पत्ते खाकर अपना गुजारा करते हैं। सभी तरह की फसलें भी हरी होने के बाद ही पकती है क्योंकि वो भी एक तरह के पौधे ही होते हैं। इस तरह से मनुष्यों को भी प्रकाश संश्लेषण की वजह से ही भोजन प्राप्त होता है।

2. पर्यावरण संतुलन में सहायक – प्रकाश संश्लेषण की क्रिया की वजह से पौधे कार्बन डाइऑक्साइड को लेते हैं और ऑक्सीजन को निकालते हैं, इस प्रकार वातावरण को शुद्ध करते हैं। हर साल पौधे लगभग 1 लाख करोड़ टन कार्बन को प्रति वर्ष जैव-पदार्थों में बदल देते हैं।

3. उर्जा का स्रोत – प्रकाश संश्लेषण जैव ईंधन बनाने में भी सहायक होता है जैसे कि पशु जो हरा चारा खाते है उससे हमें गोबर मिलता है जिससे हम उर्जा प्राप्त कर सकते है। कोयला और पेट्रोलियम भी प्रकाश संश्लेषण की ही देन हैं क्योंकि यह लाखों-करोड़ो साल पहले गले-सड़े जीवों और पेड़ो के धरती के नीचे दब जाने के कारण बने हैं।

————- समाप्त ————-

Please Note :- प्रकाश संश्लेषण क्रिया / Photosynthesis in Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे करे, धन्यवाद।

11 Comments

  1. Suraj kumar
  2. Hareram Gupta
  3. Pravin Pandey
  4. Pushpendra Patel
  5. Naushad Alam
  6. sandeep nag
  7. Girdhari
  8. Arun Gautam
  9. Junaid Akhtar
  10. Amit panay
  11. Amarjeet kumar

Leave a Reply

error: Content is protected !!