X-rays क्यों खतरनाक होती हैं? जानें 14 मज़ेदार तथ्य।

X-Rays in Hindi

X-rays / एक्स-रे बहुत ज्यादा Energy वाली Electromagnetic Radiation (विद्युत चुम्बकीय विकिरण) है, जिसे कई बार X-radiation भी कह दिया जाता है। X-rays कई तरह के काम आती है जिसमें टुटी हुई हड़्डियों का पता लगाना, बिमारियों का पता लगाना आदि शामिल है। इनका उपयोग सुरक्षा के लिए भी किया जाता है क्योंकि इनसे छुपे हुए हथियारों का आसानी से पता लगाया जा सकता है।

X-rays की खोज़ किसने की थी?

1895 में X-ray की खोज़ करने वाले वैज्ञानिक विलहम रॉटजन (Wilhelm Röntgen) थे जो जर्मनी के रहने वाले थे। उनके नाम पर कई बार X-rays को रॉटजन विकिरणें भी कह दिया जाता है। पहला X-ray उनकी पत्नी का हाथ था, जिसमें उनकी शादी की अंगूठी भी शामिल थी। (ऊपरी चित्र)

X-rays से जुड़े रोचक तथ्य | X-rays Interesting Facts in Hindi

1. विलहम रॉटजन से X-rays की खोज़ अकस्मात (accidentally) हुई थी। असल में वो एक दिन वैक्यूम ट्यूबों के साथ कुछ प्रयोग कर रहे थे, तब अचानक उन्होंने विचित्र तरह की विकिरणों को महसूस किया। बाद में पता चला कि यह साधारण तरंगे नहीं थी।

2. X-rays की खोज़ के लिए विलहम रॉटजन को साल 1901 में नोबेल पुरस्कार मिला था।

3. विलहम की पत्नी अपने पति के आविष्कार से खुश नहीं हुई थी। उन्होंने अपने हाथ की डरावनी छवि देखने के बाद कहा कि, “मुझे ऐसा लगा कि जैसे मैंने अपनी मौत देख ली हो।”

4. X-rays की सहायता से चिकित्सा के क्षेत्र में काफी लाभ होने वाला था इसलिए विलहम रॉटजन ने इसका पेटेंट नहीं करवाया क्योंकि वो चाहते थे कि उनके आविष्कार से हर किसी का लाभ होना चाहिए।

5. X-rays को English में कई तरह से लिखा जाता है जैसे कि xray, X ray, X-ray, and x-ray. हम इस पोस्ट में X-ray(s) का इस्तेमाल कर रहे हैं।

6. X-rays की खोज़ के शुरूआती दिनों में रॉटजन X-ray लेने के लिए एक जिंक और सीसे के बक्से का इस्तेमाल करते थे ताकि उनकी प्रयोगशाला में पड़ी फोटोग्राफिक प्लेटें ख़राब ना हों। इस जाने अंजाने में उन्होंने एक तरह से खुद को भी सुरक्षित कर लिया था। शुरूआती समय में उन्हें पता नहीं था कि इन विकिरणों के ज्यादा संपर्क में रहने से उन्हें कैंसर जैसी भयानक बिमारी हो सकती है।

7. X-rays की Wavelength (तरंग दैर्ध्य) पराबैंगनी विकिरणों से कम होती है जिसकी वजह से ये ज्यादा शक्तिशाली होती हैं। X-rays की Wavelength दिखने वाले प्रकाश से भी कम होती है।

8. जिन वैज्ञानिकों को X-rays से होने वाले नुकसान के बारे में पता नहीं था उन्हें कई तरह की समस्याओं जैसे कि जलन, बालों का झड़ना और कैंसर जैसी बिमारियों का सामना करना पड़ा।

9. Clarence Dally पहले व्यक्ति थे जिनकी मौत X-rays की वजह से हुई। उन्होंने थॉमस एडीसन के X-ray light bulb पर कई साल तक काम किया था जिसकी वजह से उनके शरीर में कैंसर के कई घाव हो गए और महज 39 साल में उनकी मृत्यु हो गई।

10. जब एक्स किरणें हमारे शरीर से गुजरती हैं तब कुछ किरणों को हमारे शरीर के बाहरी और अंदरूनी अंग रोक लेते है जबकि कुछ किरणें बीच से गुजर जाती है। इसकी वजह से ही हमारे शरीर के अंदरूनी हिस्से की तस्वीरें X-ray Graph पर बन जाती हैं।

11. CT scans, Fluoroscopy, Dental X-rays और Mommograms भी X-rays की पद्धतियां ही हैं। सोनोग्राफी, अल्ट्रासाउंड और MRI X-rays की पद्धतियां नहीं हैं और यह आपकी सेहत के लिए सुरक्षित होती हैं।

12. क्योंकि X-rays मानव भ्रूण के लिए खतरनाक होती है इसलिए गर्भवती महिलाओं का बिलकुल भी एक्स-रे नहीं किया जाता। ऐसा करने पर विकलांग बच्चा पैदा हो सकता है।

13. एक अनुमान के अनुसार अमेरिका में 0.4% कैंसर के मामले CT scans की वजह से पैदा हुए हैं।

14. X-rays क्यों खतरनाक होती हैं?

उत्तर : X-rays इलेक्ट्रॉनों को उत्सर्जित करती हैं और जब हमारे टिशु X-rays के संपर्क में आते हैं तो यह इलेक्ट्रॉन हमारे डीएनए की जंजीरों को तोड़ सकते हैं, जिसकी वजह से कैंसर का खतरा हो सकता है। इसलिए आप कभी भी छोटी सी बात पर X-ray ना करवाएं।

Related Posts

17 thoughts on “X-rays क्यों खतरनाक होती हैं? जानें 14 मज़ेदार तथ्य।”

  1. सर मेरा हाथ फेक्चर हो गया था मेरे लग भग ‌‌‌आठ एक्सरे हो गऐ है क्या मुझे कोई नुक्सान हो सकता है क्या सर

    Reply
    • रमेश जी, इतनी चिंता मत कीजिए। कुछ नहीं होगा।

      Reply
    • चंदन जी क्योंकि बिना एक्स-रे के कई बिमारियां पता नहीं चल पाती, इसलिए यह किया जाता है।

      Reply
    • ज्यादातर समय संपर्क में रहने से कई तरह की शारीरिक परेशानियां हो सकती हैं। कैंसर प्रमुख समस्या है, जो इस तरह से हो सकती है।

      Reply
    • मुझे इस क्षेत्र की ज्यादा जानकारी नही है। आपको किसी जानकार व्यक्ति से पूछना चाहिए।

      Reply
  2. bahut aachi baat batai hai bhai par log dhadlle se CT scan karwa rhe hai. unko ye baat janni chahiye. woww…awesome article sahil bhai. thank you for sharing.

    Reply
  3. नमस्कार साहिल जी, adnow वाले फ्रॉड हैं.. .अभी 18 जुलाई से पता नहीं कैसे मेरे ब्लॉग के adnow के विज्ञापन पर क्लिक रेट 8 से 10% तक हो गया और मुझे रोजाना के $ अच्छे दिखाई देने लगे थे… फिर आज 10 दिन बाद उन्होंने मेरा अकाउंट बंद कर दिया और मुझे मेल किया की आपने रूल्स को तोडा हैं और मेरी पिछले महीने की सभी जमा राशि शुन्य कर दिया और कहा की आपका अकाउंट बैन हो गया हैं.. .. … आपको तो पता ही हैं मैं कितना पुराना ब्लॉगर हूँ और पुराने ब्लॉगर में इतनी ज्यादा इमानदारी तो होती ही हैं की वह विज्ञापन कर्ताओं को कभी धोखा नहीं देते हैं… मेरे 125 $ भी उन्होंने मार लिए … कहते हैं की मैंने रूल्स को तोडा हैं.. . मैं एक Genuine Blogger हूँ. साल 2011 से मैं ब्लॉग्गिंग कर रहा हूँ… और मैं अपने विज्ञापनकर्ताओं को धोका नहीं देता, लेकिन आज मेरे साथ इस एडनाउ की कम्पनी ने धोखा कर दिया हैं…..

    मैंने कोई भी गलत काम नहीं किया हैं.. मुझे तो लगता हैं की मेरे ब्लॉग का ट्रैफिक कम हो रहा था , इसलिए यह लोग मुझे ब्लाक करना चाहते थे, इसलिए इन्होने यह चाल चली हैं , 17 जुलाई तक 2 से 3% CTR रेट था और 18 जुलाई से 8 से 10% CTR हो गया… मैंने ध्यान नहीं दिया… लेकिन मैं तो यही कहूँगा की adnow वाले फ्रॉड हैं क्योंकि मैंने अभी अच्छीखबर.कॉम पर भी देखा की adnow के विज्ञापन अब गोपाल जी की वेबसाइट पर भी नहीं दिखाई दे रहे हैं… यह फेक कम्पनी हैं…

    मैंने उन्हें टिकेट भी लिखा हैं की मैंने कोई गलत काम नहीं किया हैं… पता नहीं मेरे साथ क्या हो रहा हैं? लेकिन मैं कसम खा कर कहता हूँ की मैंने कोई इनवैलिड activity नहीं की हैं… यह एड्नाउ वाले ही फ्रॉड हैं… मैं इनके विज्ञापन का इस्तेमाल 1 साल से अपनी वेबसाइट पर कर रहा हूँ… अगर मैं गलत ब्लॉगर होता तो मेरे एडनाउ का अकाउंट 1 साल पहले ही बंद हो जाने चाहिए थे… 1 साल से इनके विज्ञापन अपनी वेबसाइट पर लगाये रखे… पिछले 1 महीने की एडनाउ की कमाई इन्होने हड़प ली… चलो आज एक सबक तो प्राप्त हुआ की इन्टरनेट पर धोखा भी मिलता हैं…

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!