चंगेज खान के बारे में 12 भयंकर बातें | Changez Khan in Hindi

changej khan in hindi

चंगेज खान एक बहुत क्रूर और कुशल मगोलियाई सम्राट था जिसने अपनी युद्ध कुशलता से सन 1206 से 1227 के बीच एशिया और यूरोप के एक बड़े हिस्से को जीत लिया था। चंगेज खान का नाम सुनकर अच्छे – अच्छे सुरमाओं के पसीने छूट जाते थे।

चंगेज खान और उसकी सेना जिस भी क्षेत्र से गुजरती थी, अपने पीछे बर्बादी की कई कहानियां छोड़कर चली जाती थी।

पेश है इस क्रूर शासक के जीवन, युद्ध कुशलता और अत्याचारों से जुड़ी 12 बातें

चंगेज़ खान का जन्म और बचपन

चंगेज खान का जन्म सन 1162 के आसपास मंगोलिया के एक ख़ानाबदोश कबीले में हुआ था।

चंगेज ख़ान का पिता यंगुसी – बगातुर उनके कबीले का सरदार था। जब चंगेज ख़ान मात्र 10 वर्ष का था तो उसके पिता का देहांत हो गया और अपनी पत्नी और सात बच्चों को अनाथ छोड़कर चला गया।

अनाथ होने के बाद भी चंगेज ख़ान मेहनत करता चला गया और बढ़ता चला गया। कबीले के सरदार का पुत्र होने की वजह से ही वो बचपन से युद्ध की बारीकीयां सीखता रहा।

बचपन में चंगेज ख़ान बहुत गुस्सैल था। एक बार उसके एक छोटे भाई ने उसकी एक मछली चोरी करके खा ली, इस पर चंगेज को गुस्सा आ गया और उसने अपने भाई को मार दिया।

चंगेज ख़ान का धर्म – वो मुसलमान नही था

चंगेज़‘ नाम के साथ ‘ख़ान‘ लगा होने की वजह से अधिकतर लोग यह मान लेते है कि वह मुसलमान था, जब कि ऐसा नही है।

चंगेज़ ख़ान का असली नाम ‘तेमुजिन‘ था।

चंगेज़ ख़ान ने अपनी कुशलता से शुरू से अपने कबीले में अच्छा खासा प्रभाव बना लिया था। मंगोलों की सभा ने उसे अपना सरदार घोषित कर दिया और ‘कागान‘ की उपाधि दी जो आगे चलकर ख़ान में बदल गया। ‘कागान’ का अर्थ होता है सम्राट जा सरदार

चंगेज़‘ नाम उसे बाद में मिला जब कई कबीलों ने उसकी अधीनता स्वीकार कर ली और पृथ्वी का एक बड़ा क्षेत्र उसके कब्ज़े में आ गया। ‘चंगेज़’ शब्द का अर्थ होता है विश्व का समुद्र

तुमेजिन अब ‘चंगेज़ ख़ान’ बन चुका था जिसका मतलब होता है ‘विश्व सम्राट‘।

ऐसे की थी अपने विजय अभियानों की शुरूआत

तुमेजिन जब कागान जा ख़ान बना तब उसकी उम्र 51 साल हो चुकी थी। इस उम्र में ज्यादातर आदमी शांति और आराम चाहते है पर उसके लिए तो यह विजय यात्रा के जीवन की शुरूआत थी।

एक कहानी के अनुसार एक बार चंगेज़ ख़ान शिकार से वापिस लौटकर जब अपने ठिकाने पर पहुँचता है तो अपनी जवान पत्नी को गायब पाता है। बाद में उसे पता चलता है कि एक दुश्मन कबीले के लोगों ने उसकी पत्नी का अपहरण कर लिया है।

इसके बाद चंगेज़ ख़ान अपने कबीले के लोगों को संगठित कर अपनी पत्नी को छुड़ाने के लिए कई लड़ाईयां लड़ता है। अपने बीबी के मिल जाने के बाद भी अपनी जीतों से उत्साहित होकर लड़ाईया जारी रखता है और दुनिया में सबसे ज्यादा क्षेत्र जीतने वाला सम्राट बन जाता है।

जीता था 3 करोड़ 30 लाख वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र

changej khan empire in hindi

चंगेज़ ख़ान ने 1206 से 1227 के बीच दुनिया के एक बड़े हिस्से पर कब्ज़ा कर लिया जिसका क्षेत्रफल लगभग 3 करोड़ 30 लाख वर्ग किलोमीटर था। इतना क्षेत्रफल पूरे थल भाग का 22 प्रतिशत है और वर्तमान भारत से 10 गुणा ज्यादा।

चीन से लेकर बुखारा (उज़्बेकिस्तान), समरकंद (उज़्बेकिस्तान), रूस, अफ़गानिस्तान, ईरान, इराक, बुल्गारिया और हंगरी तक चंगेज़ ख़ान का साम्राज्य फैला हुआ था। इतना क्षेत्र आजतक कोई भी दूसरा सम्राट नही जीत सका है।

चंगेज़ ख़ान की युद्ध कुशलता

chengej khan in hindi

मंगोलिया के ख़ानाबदोश लोग बड़े ताकतवर थे। लेकिन इनकी ताकत इनके ज्यादा काम ना आती, अगर इन्होंने एक योग्य सरदार पैदा ना किया होता। यह योग्य सरदार था चंगेज़ ख़ान

चंगेज़ ख़ान बड़ी सावधानी और समझदारी से युद्ध करता था। उसने अपने सैनिकों को खास तरह की ट्रेनिंग दे रखी थी। सबसे ज्यादा वह घोड़ों को सिखाता था और इस बात का ख़ास इंतज़ाम किया था कि युद्ध में एक घोड़ा मरने के बाद दूसरा फौरन सैनिकों के पास पहुँच सके क्योंकि उस समय युद्ध में तेज़ी के लिए घोड़ों का बहुत ज्यादा महत्व था।

युद्ध में भले ही चंगेज़ ख़ान की सेना विरोधी सेना से कम होती पर अपने पक्के अनुशासन और संगठन के कारण जीत चंगेज़ ख़ान की सेना की ही होती।

चार करोड़ लोगों की मौत का जिम्मेदार था चंगेज़ ख़ान

changej khan

चंगेज़ ख़ान को एक तो उसके साम्राज्य विस्तार तो दूसरा उसकी क्रूरता के लिए जाना जाता है। अपने विजयी अभियानों के दौरान वह जिस भी क्षेत्र में जाता शहरों के शहर तबाह कर देता और खूब मार – काट करता।

एक अनुमान के अनुसार उसने अपने समय की 11 फीसदी आबादी का सफाया कर दिया जो तकरीबन 4 करोड़ बनती है।

उसकी बर्बरता का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसने सन 1219 में ईरान पर हमला कर वहां की 75 प्रतिशत आबादी का समूल खात्मा कर दिया।

उज़्बेकिस्तान के बड़े शहर बुखारा और राजधानी समरकंद पूरी तरह जला कर राख कर दी। बुखारा की 10 लाख की आबादी में से सिर्फ 50 हज़ार लोग ही जिंदा बचे थे।

इतिहासकारों के अनुसार चंगेज़ ख़ान के हमले के समय जितनी आबादी पूरे ईरान की ती, उतनी आबादी वापिस होने में 750 साल का लंबा समय लगा।

चंगेज़ ने जब चीन की दीवार को भेदकर उसकी राजधानी बीजिंग पर कब्ज़ा किया तो उसके बाद चीन की जनसंख्या में बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी।

इन बातों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि चंगेज़ ख़ान कितना क्रुर और निर्दयी था।

चंगेज़ ख़ान भारत आते – आते लौट गया

चंगेज खान ने ईरान में जिस राजा ख़ारज़म पर हमला किया था उसका लड़का जलालुद्दीन भागकर सिंध नदी तक चला आया और दिल्ली दरबार में आश्रय लेने के लिए चला गया।

उधर दिल्ली के सुल्तान इल्तुमिश ने चंगेज़ ख़ान के डर से जलालुद्दीन को आश्रय देने से मना कर दिया।

पहले चंगेज खान की योजना थी कि वह भारत को रौंदते हुए भारत के बीच से गुजरे और असम के रास्ते मंगोलिया लौट जाए। पर दिल्ली के सुल्तान इल्तुमिश के हार मानने के बाद और बीमारी के कारण वह वापिस लौट गया।

इस तरह उत्तर भारत एक संभावित और भयानक बर्बादी से बच गया।

वासना का भूखा चंगेज़ ख़ान

चंगेज खान जिस भी क्षेत्र को जीतता था उसके पराजित योद्धाओं की पत्नियों और बेटियों की नंगन परेड़ कराता था। वह उन स्त्रियों का चयन करता था जिसके साथ उसे हमबिस्तर होना होता था।

महिलाओं को वह उनकी छोटी नाक, गोल नितंब, लंबे रेशमी बाल, लाल होंठ और मधुर आवाज़ से पसंद करता था। बाकी बची स्त्रियों को अपने अधीनस्थ अधिकारियों और सेनापतियों की छावनियों में भेज देता था।

जीवित हैं चंगेज़ ख़ान के 1.6 करोड़ वंशज

चंगेज़ ख़ान की कई पत्नियां थी। इतिहासकारों के अनुसार चंगेज़ ख़ान हज़ारों का नही तो कम से कम सैंकड़ो बच्चों का बाप था।

रूस की एक एकेडमी ने मंगोलिया के सीमाई क्षेत्र में रहने वाली जनसंख्या के टिश्शूओं के नमूनों की जांच में पाया कि आज भी चंगेज़ के 1 करोड़ 60 लाख पुरूष वंशज जीवित हैं। अगर महिला वंश्जों को भी इसमें जोड़ लिया जाए तो यह संख्या दूगनी हो जाएगी।

इसका मतलब है कि पृथ्वी पर लगभग 3 करोड़ लोग ऐसे है जिनके दादा के दादा के दादा . . . . और नानी की नानी की नानी . . . . का पिता चंगेज़ ख़ान था।

चंगेज़ ख़ान का धार्मिक दृष्टिकोण

धार्मिक मामलों में चंगेज खान बड़ा दयालु था। वह सभी धर्मों का सम्मान करता था।

चंगेज़ एक विचारधारा शमाबाद को मानता था जिसे आप उसका धर्म कह सकते है। शमाबाद में ‘नीले आसमान‘ की पूजा होती है।

चंगेज़ खान ताओ धर्म गुरूओ से भी खूब ज्ञान – चर्चा किया करता था।

अपने मरने तक चंगेज खान शमाबाद पर ही कायम रहा और जब भी कठिनाई में होता तो नीले आकाश की तरफ देखता था।

चंगेज़ को बाज़ पालने का शौक भी था। उसके पास तकरीबन 800 ब़ाज थे।

चंगेज़ ख़ान की मौत

यह कोई नही जानता कि चंगेज़ ख़ान की मौत क्यों हुई और उसे कहां दफनाया गया था जा जलाया गया था।

एक कहानी के अनुसार घोड़े से गिरने की वजह से उसकी मृत्यु हो गई थी।

चंगेज खान 1227 में 65 साल की उम्र में एक बड़ा इतिहास अपने पीछे छोड़ कर इस दुनिया से चला गया।

चंगेज़ ख़ान के उत्तराधिकारी

चंगेज़ खां की मृत्यु के बाद उसके लड़के ओगताई ने मंगोल साम्राज्य की गद्दी संभाली। चंगेज़ खान के मुकाबले वह दयावान और शांतिप्रिय था। वह कहा करता था- ‘हमारे कागन चंगेज़ ने बड़ी मेहनत से हमारे शाही ख़ानदान को बनाया है। अब समय आ गया है कि हम अपने लोगों को शांति दें’

चंगेज़ ख़ाँ के मरने के बाद भी उसका साम्राज्य 200 साल तक टिका रहा।

निष्कर्ष

तैमूर और गज़नवी को महान बताने वाले अरब और ईरानी लेखकों की नज़र में चंगेज़ खाँ एक दानव था। इसमें कोई शक नही कि चंगेज़ खाँ एक जालिम शासक था। पर उस समय के दूसरे शासकों और उसमें कोई ज्यादा अंतर नही था। भारत में मुस्लिम बादशाह यही कुछ करते थे।

गौर करने वाली बात यह है कि जहां चंद्रगुप्त, सिकंदर और अकबर जैसे राजाओं ने प्रदेशों को जीतने का काम जवानी में पूरा किया था वहीं चंगेज़ ख़ान ने 41 वर्ष की आयु में अपने विजयी अभियान की शुरूआत की। इससे हम निष्कर्ष निकाल सकते है कि चंगेज़ खाँ ने जवानी के जोश में एशिया को नही रौंद डाला। वह अधेड़ उम्र का एक होशियार और सावधान आदमी था और हर काम को हाथ में लेने से पहले उस पर विचार कर तैयारी कर लेता था।

107 thoughts on “चंगेज खान के बारे में 12 भयंकर बातें | Changez Khan in Hindi”

  1. Achhi jaankkaari h, Abhi tk mujhe bhi yahi pata tha ki changed Khan Muslim tha…Khan title ki wjh se..but aaj pata Chala ki wo to Buddhist tha..thanks bro…for knowledgebl information

    Reply
    • वो बौद्ध नहीं था कुमकुम जी। पोस्ट में चंगेज़ खान के धर्म के बारे में स्पष्ट बताया गया है।

      Reply
  2. अच्छा आर्टिकल था। ओर ऊपर वाले का शुक्र है चंगेज़ भरक्त नही आया । मुझे एक बात जननी है। कहते हैं कि मंगोलों को भारत आने से मुग़लो ने रोका क्या यह सही है

    Reply
    • मुगल तो तब थे ही नहीं अपल जी। खिलजी की मंगोलो से कुछ लड़ाइयां जरूर हुई थी।

      Reply
  3. aacha article h

    bahut saare article pade h par ye aapka bala lajabab h sir ab mai aapki site se hi pada karunga
    mobile aap nahi h koyi aapki

    sir… photos real hoti h inki kya ?
    reply jarur krna

    Reply
    • उसकी बीवियों की संख्या अज्ञात है, जैसे कि लेख में बताया गया है। यह बात गलत है कि सभी भारतीय चंगेज़ खान के वंशज है। चंगेज़ ख़ान तो महज 800 साल पहले हुआ, क्या उससे पहले भारतीय नहीं थे?

      Reply
  4. Shukra manye changez Khan ki would chandra gupt maurya ke samay nhi tha nhi toh sale ka ata pta kahi
    Nhi chatla
    Chandra gupt ki sena uska
    Nashta kar dalti us ki sena samet

    Reply
  5. Sir apka article padkar maja a gya such mai apki wabsite gajab h ab se mai sirf aur sirf apki website par hi history pada karuna thank bhai

    Reply
  6. Agar Changez khan Muslim hota to mangol country me Muslim log hote but present mangol me
    Muslim 3% hai aur Buddhism 53%
    Isase pata chalata hai ki Changez khan Muslim nahi tha
    Example Arab country me Muslim
    Aur Bharat me Hindu

    Reply
    • चंगेज़ ख़ान और बौद्ध धर्म दोनों विपरीत चीजें है। इसके सिवाए भगवान बुद्ध चंगेज़ ख़ान से 16-17 सदियों पहले हुए थे, तो फिर वो उनके पिता कैसे हो सकते है।

      Reply
  7. aapki ye article gazab hai bhai ye story history channel par bhi diya tha good job brother mind blowing and thank you very much

    Reply
  8. very good work bro. shahil ji
    mujhe ye jankari padhkar acchha lagaa.
    ab acchhe shasak baare jankari dena. bro.
    mujhe intejar rahga tumhara .artical ka.
    thank bro .
    kya mujhe uski patni ka naam aur uske bacche ka naam aur kis desh ka tha uski jankari mil sakta hai. [email protected] thank bro

    Reply
  9. Confirm to nhi hai mager bhout se books mai wo phale to muslim nhi mager marte waqt ysne islam kubool kiya tha pata nhi sahi hai ya galat baaaki mangola wale bhout khtrank the accha hua allaudin khilji or althtutmashi the india mai warna mangola wale to india ka naksha badal dete ….

    Reply
    • जिस समय चंगेज़ ख़ान था उस समय अलाउद्दीन खिलज़ी नही थी। और वो भी शायद उसे ना रोक पाता।

      Reply
      • No Alauddin khilji was the sultan of delhibat the time of Genghis khan..confirm 100percent no doubt has study somewhere but cant give you reference right now

        Reply
    • vo apne aap ko khuda ka abhisap manta tha usne khlifa ka mardar kiya tha ak jut ki bori me dal kr kyoki mana jata tha ki agr khlifa ka mardar krega to dharti ft jayrgi is karn usne jut ke bore dall kr mardar kiya tha khalifa muhmmand shib ke utra dhikari mane jate the

      Reply
    • Aap shahi bol the ho usne Islam qabool kiya kyu ki usi time Islam bahot tezi se fail rha tha . Maine aur bhi book pari hai but usme kuchh aur bhi likha hai ki India me raaz kiya tha

      Reply
  10. मंगोल शासक (चंगेज खान) पहले बौद्ध थे, लेकिन बाद में धीरे-धीरे तुर्कों के सम्पर्क में आकर उन्होंने इस्लाम को अपना लिया।,,,, गलत आर्टिकल लिखा है। 60% गलत है

    Reply
      • मैं बचपन से इस वीर योद्धा की कहानी सुनता आया हूँ, उसकी दिलेरी, बहादुरी और लाजवाब ताक़त उसे दुनिया का सबसे बड़ा एकमात्र शासक बनाता हैं. दुनिया का कोई भी योद्धा उनके सामने चींटी की बराबर हैं

        Reply
    • किस आधार पर कह रहे हैं आप, या फिर किसी वामंपथी के विचार पढ़ कर कमेंट किए हैं? अपनी गलती पर पछतावा करके भलाई करने वाला दोषी नहीं रह जाता।

      Reply
  11. आप अपने ब्लॉक में जो कुछ भी लिखते हैं उन सब का स्रोत क्या है ??कृपया कर बताएं.

    Reply
  12. bhaut achha lga etna sab jan kar apki website par hi itna clear sab mila hai thank u soo much nd very gud job

    Reply
  13. Aap k jaise gyan batne valo se bachho ko history k bareme bari k se jankari milti hai jo unke jivan me aage bahut fayde mand sabit hoti hai thanks

    Reply
  14. Apki jankari theek hai. Kya koi hulaku nam ka yoddha bhi tha? agar tha to uske bare mai jankari jarur dain.

    Reply
  15. Thanks bro inquiry ke liye

    ✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✋✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏✏

    Nice
    ✏✏✏✏

    Reply
  16. Ye jaankaari Jhuti Hain,, Changej Khan Muslim Tha,,, Ye Bat Wikipedia Aur Bharatdiscovery Dono Me Hain,,, Usi Ka Vanshaj Samrat Akbar Aur Humayu Tha,, Ek Bar Jaankaari Check Kar lo

    Reply
    • Khan kisi bhi Arabi Muslim ka title nahi hota…. Khan ek upaadhi thi…. Mangol log us samay baudh dhram se sambandhit the. Wah Muslim Kahi se nahi tha…. Aur Dharma ke abhiyan par nahi nikala tha. Usane sabase jayada tabahi Arab aur bagadad main machai aur Muslim khalifa Ko babagdad chhod Bhagana pada tha.

      Reply
    • झूट है सब मुस्लिम शासकों जितना क्रूर और कोई भनानहीं हुआ और दागाबाज़ भी

      Reply
      • Abe yaar changej khan muslman tha ager bah muslman nahi hota Babar ne use apna purbaz kyu bataya mugal samarajy pdo OK bhai muslmaan tha OK

        Reply
        • आज़म जी चंगेज़ ख़ान के धर्म के बारे में ऊपर विस्तार से बताया गया है तो फिर फालतु की बहस क्यों कर रहे हैं। भारतीय उपमहाद्वीप पर रह रहे 90 प्रतीशत मुसलमानों के पूर्वज हिंदु थे तो क्या आप उन सभी को मुसलमान मान लेंगे।

          Reply
    • Are dear, Muslim kings were completely same as Chagez Khan. You can read Indian history, who were the most cruel and destructive rulers in India? Who destroyed Temples ? and so on.

      Reply
  17. Chankeg Khan – The Great Worrior! I want to know about him since long and your article provided me the opportunity. Thank you for great piece of information.

    Reply
  18. सम्राट अशोक भी महान शासक रहे है … उनके बारें में लिखिए

    Reply
  19. Agar Wo 1165 mei paida hua and 1227 mei mara to uski Umar 65 saal huyi naa but tumne bataya ki Wo 72 saal Ka mara. Iss point ki correction karo

    Reply
    • रोहित जी चंगेज खान की मृत्यु के साल की पक्की जानकारी है पर जन्म की नहीं। उसकी जन्म 1156 से 1165 के बीच माना जाता है।

      Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!