Planet Mercury in Hindi

बुध ग्रह के बारे में 16 रोचक तथ्य – Planet Mercury in Hindi

About Planet Mercury in Hindi – बुध ग्रह के बारे में जानकारी

Planet Mercury in Hindi
Planet Mercury (Credit – Wikimedia)

बुध ग्रह सूर्य के सबसे नजदीक का ग्रह है। यह सौर मंडल के सभी ग्रहों में सबसे छोटा है और वजन के हिसाब से भी सबसे कम है।

बुध ग्रह की रूपरेखा – Planet Mercury Profile in Hindi

औसतन व्यास – 4880 किलोमीटर
सूर्य से औसतन दूरी – 5 करोड़ 76 लाख किलोमीटर
सूर्य की परिक्रमा करने में लगने वाला समय – 88 दिन
द्रव्यमान – 3.285 × 1023 , अर्थात 3285 करोड़ लाख करोड़ (मतलब 1 लाख करोड़ 3285 करोड़ बारी)

बुध ग्रह से जुड़े रोचक तथ्य – Planet Mercury Facts in Hindi

1. बुध ग्रह के दो साल में तीन दिन होते हैं। अर्थात बुध सूर्य की दो बार की परिक्रमा में अपनी धुरी की तीन बार परिक्रमा करता है। 1962 से पहले तक यह माना जाता था कि बुध के एक दिन का समय और एक वर्ष का समय बराबर होता है।

2. बुध ग्रह सूर्य की परिक्रमा अंडाकार पथ पर करता है। इसकी सूर्य से निकटतम दूरी लगभग 4 करोड़ 60 लाख किलोमीटर है जबकि अधिकतम दूरी लगभग 7 करोड़ किलोमीटर है।

3. बुध ग्रह का पर्यावरण स्थिर नहीं है। इसके ईर्द – गिर्द वायुमंडल की कोई विषेश परत भी नहीं है। जो थोड़े – बहुत परमाणु सौर वायु के कारण इसके दायरे में आ भी जाते हैं वह बुध के बहुत गर्म होने के कारण जल्द ही उड़ कर अंतरिक्ष में चले जाते हैं। इसके कारण इसका पर्यावरण स्थिर नही रहता।

4. बुध ग्रह की सतह ऊबड़-खाबड़ है और सतह पर कई क्रेटर(गड़ढे) भी हैं। कुछ गड़ढे तो बहुत बड़े हैं, सैंकड़ो किलोमीटर तक लंम्बे और तीन किलोमीटर तक गहरे।

5. बुध ग्रह बाकी सभी ग्रहों से तेज़ गति से सुर्य की परिक्रमा करता है, लगभग 1 लाख 80 हज़ार किलोमीटर प्रति घंटा। पृथ्वी लगभग 1 लाख 70 हज़ार किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार से गति करती है। अगर बात seconds में करें तो बुध एक second में 47.362 किलोमीटर की यात्रा कर लेता है और पृथ्वी 29.78 किलोमीटर।

6. बुध पृथ्वी के बाद सबसे ज्यादा घनत्व वाला पिंड है। बुध का घनत्व 5.43 gm/cm3 है जबकि पृथ्वी का 5.51 gm/cm3 है। बुध पृथ्वी से 26 गुणा छोटा है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि पृथ्वी से इतना छोटा होने के बावजूद इतना ज्यादा घनत्व होना इस बात की ओर इशारा करता है कि बुध का केंद्र पृथ्वी के केंद्र की तरह लोहे का बना हुआ है और इसका लौह केंद्र पृथ्वी के लौह केंद्र से बड़ा होगा।

7. बुध के दिन के तापमान और रात के तापनान में भारी अंतर पाया जाता है। बुध के दिन का तापमान 450°C तक पहुँच जाता है जबकि रात का तापमान °C से कहीं नीचे -176°C तक ही रह जाता है।

8. बुध ग्रह आकार में शनि के उपग्रह ‘टाइटन’ (Titan) और बृहस्पति (Genymede) के उपग्रह ‘गनीमीड’ से छोटा है। वैसे प्लुटो भी बुध ग्रह से छोटा है, पर अब वैज्ञानिक प्लुटो को ग्रह नहीं मानते, उसे ‘बौने ग्रह’ (Dwarf Planet) का दर्जा दे दिया गया है।

9. पृथ्वी पर से यदि बुध ग्रह को नंगी आँखो से देखना हो तो इसे सूर्योदय से ठीक पहले और सूर्यास्त के ठीक बाद देखा जा सकता है।

10. प्राचीन रोम के लोग बुध ग्रह को देवताओं का संदेशवाहक कहते थे क्योंकि यह अंतरिक्ष में काफी तेज़ी से गति करता है।

11. बुध ग्रह का अंग्रेज़ी नाम ‘Mercury’ नाम एक रोमन देवता के नाम पर रखा गया है। लेकिन इसकी खोज किसने और कब की ? इसके बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है।

12. इतिहास में बुध ग्रह का सबसे पहला उल्लेख 5000 साल पहले सुमेरी सभ्यता के लोगों द्वारा किया मिलता है।

13. Telescope के माध्यम से बुध ग्रह को देखने वाले पहले इंसान महान वैज्ञानिक गैलीलियो गैलिली थे।

14. बुध ग्रह का कोई उपग्रह(चांद) या गोल छल्ला नहीं है क्योंकि इसका गुरुत्वाकर्षण बल बहुत कमजोर है।

15. अगर पृथ्वी पर आपका वजन 100 किलो है तो बुध ग्रह पर ये 38 किलो होगा।

16. बुध जब सूर्य के सबसे नज़दीक होता है तो अगर आप इस पर खड़े होकर सूर्य को देखें, तो सूर्य अपने आकार से तीन गुना ज्यादा आकार का नज़र आएगा।

More Planets Facts in Hindi

Tags : About Planet Mercury in Hindi , Planet Mercury in Hindi, बुध ग्रह के बारे में जानकारी।

19 thoughts on “बुध ग्रह के बारे में 16 रोचक तथ्य – Planet Mercury in Hindi”

  1. Respected sir,
    इन ग्रहो का मानब जीबन पर कैसा असर पड्ता है?
    Sciencetifically कोई प्रूफ है क्या?
    2। मानाब राशि और ग्रहो का कैसा सम्बंध होता है?
    3। हम बिबिद तरीके के पथर अंगूठी बनाकर पहनते है उस्का ग्रहो से वक्कै सम्बंध है या सिर्फ भ्रम है।

    Reply
    • कोमल जी हमें इन सब बातों की ओर ध्यान नहीं देना चाहिए। मैं निजी तौर पर इन चीजों में बिलकुल भी विश्वास नहीं करता।

      Reply
  2. Namaskar Shahil ji
    Aap ase hi Gyanvardhak wa rochak knowledge per apne aur bhi lekh prakashit Kare jisse logo me jagrukta badhe

    Reply
  3. sir i have a question about article number 15 sir kya humara weight planets ke according judge hota hn plzz give me all details deeply

    Reply
    • अतुल जी हमारा वज़न(weight) हम अकसर दूसरों को बताते हैं, वो हमारी पृथ्वी से ही नापा जाता है। लेकिन weight के सिवाए एक और चीज़ होती है – Mass, यानि कि द्रव्यमान। हमारा द्रव्यमान पूरे ब्रह्मांड में एक जैसा रहता है जबकि weight गुरूत्व के कारण हर जगह बदलता रहता है। यहां तक कि पृथ्वी पर भू-मध्य रेखा और धुर्वों पर हमारा वज़न अलग-अलग होता है।

      Reply
  4. Ap ne 5 no.me kahi h ki sabhi grah budh graha se tez chalti h ……last me second me tulna ki h us me budh grah 47….
    Aur erth ko kam btaya h mujhe samjh me nhi aaya h plzz btaie isee

    Reply
    • यह तो प्राचीन समय से लोगों को ज्ञान है क्योंकि यह आकाश में हर रोज़ आसानी से देखा जाता है।

      Reply
    • इतनी देर तक याद रखने के बहुत बहुत धन्यवाद भाई। पर उसी को ब्लॉग मैने इस डोमेन पर सिफ्ट कर लिया है उस की सारी पोस्ट अच्छी तरह से शोध कर दुबारा डाली हैं।

      Reply
    • कमेंट करने के लिए धन्यवाद मित्र। इन ग्रहों के बारे में जल्द ही पोस्ट की जाएँगी।

      Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!