स्टीव जॉब्स के बारे में 12 रोचक तथ्य | Steve Jobs in Hindi

Steve Jobs in Hindi

इस पोस्ट में हम आपको गैजेट्स के जादूगर स्टीव जॉब्स के बारे में बेहद मजेदार रोचक तथ्य बताएँगे। जॉब्स में अलग सोचने और उसे सच में बदल देने की अद्भुत क्षमता थी। स्टीव जॉब्स विश्व विख्यात कंपनी Apple के संस्थापक हैं। इन की वजह से हमें iphon और ipad जैसे उपकरणों का उपयोग करने का मौका मिला।

स्टीव जॉब्स के बारे में 12 रोचक तथ्य – Steve Jobs in Hindi

1. स्टीव जॉब्स का जन्म 24 फरवरी 1955 को अमेरिका के सैन फ्रांसिसको में हुआ। स्टीव की माता अविवाहित थी और वह स्टीव को किसी कॉलेज स्नातक (Graduates) को गोद में देना चाहती थी। स्टीव जॉब्स को पॉल और कलैरा जॉब्स ने गोद लिया था। पर पॉल और कलैरा दोनो हाई स्कूल भी पास नहीं थे। पहले तो स्टीव की माता उन्हें गोद देने के लिए नहीं मानी पर बाद में पॉल और कलैरा के स्टीव को कॉलेज भेजने के आश्वासन के बाद वह मान गई।

2. स्टीव जॉब्स ने एक semester के बाद ही अपना कॉलेज छोड़ दिया था क्योंकि जो कॉलेज उन्होंने चुना था वह बहुत ही महँगा था और स्टीव के माता पिता की सारी जमा पूंजी उसी कॉलेज की फीस में खर्च होने लगी थी।

3. स्टीव जॉब्स ने कॉलेज भले ही छोड़ दिया था पर फिर भी वह उस कॉलेज में रहकर Calligraphy की classes ज़रूर लगाते थे। Calligraphy अक्षरों को अच्छे से लिखने की कला होती है।

4. स्टीव जॉब्स college में अपने दोस्तों के कमरे में फर्स पर सोते थे। वह coke की बोतलों को बेचने से मिलने वाले थोड़े-बहुत पैसों से ही खाना खाते थे। हफ्ते में कम से कम एक बार पेट भर कर खाना खाने के लिए वह हर रविवार 11 किलोमीटर पैदल चलकर श्री कृष्ण मंदिर जाकर पेट भर के खाना खाते थे।

5. जॉब्स ने लगभग 300 पेटेंट करवाए हुए थे।

6. स्टीव जॉब्स ने 12 साल की उम्र में पहली बार computer देखा था।

7. स्टीव आध्यात्मिक ज्ञान के लिए भारत आना चाहते थे। इस यात्रा के लिए धन जुटाने हेतु उन्होंने Calligraphy कुछ समय के लिए छोड़ कर एक वीडियो गेम बनाने वाली कंम्पनी के साथ काम किया।

8. स्टीव 1974 में अपने रीड कॉलेज के कुछ मित्रों के साथ भारत आए। उन्होंने काफी समय दिल्ली, उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में बिताया।

9. 7 महीने भारत में रहने के बाद वे वापस अमेरिका चले गए। उन्होंने अपने आप को बदल डाला। उन्होंने अपना सिर मुंडवा दिया और पारंपरिक भारतीय वस्त्र पहनने शुरू कर दिए।

10. स्टीव जॉब्स की जीवनी के लेखक वाल्टर आईजाक्सन हैं। स्टीव जॉब्स अपनी जीवनी लिखवाने के लिए इस बात को लेकर तैयार हुए कि उनके बच्चे यह समझ सकें कि वह उन्हें अधिक समय क्यों नही दे सके।

11. लेखक आईजैक्सन स्टीव से उनके घर पर मिले तब वह बहुत बीमार थे। आईजैक्सन ने इस मुलाकात के बारे में कहा था कि उनका दिमाग उस समय भी तेज चलता था और वह खूब हंसी-मजाक कर रहे थे।

12. पेप्सिको एक कंम्पनी है। इसके पूर्व प्रेसीडेंट जान स्कूली कहते हैं कि जब मैं एक बार स्टीव जॉब्स के घर गया तो देख कर हैरत में पड़ गया कि कमरे में एक भी फर्नीचरनहीं था। सिर्फ एक तस्वीर लगी थी। वह तस्वीर थी आइंस्टीन की । स्टीव आइंस्टीन को अपना आदर्श मानते थे। थ्रुमैन कहते हैं बौद्ध धर्म मानता है कि आप ध्यान के जरिए सत्य जान सकते हैं। साथ ही आप अपनी क्षमताओं को असीम बढ़ा सकते हैं। स्टीव जॉब्स ने ऐसा ही किया।

Related Posts

One Response

  1. tamanna ansari

Leave a Reply

error: Content is protected !!