ब्रम्हांड की 14 विशाल बातें – Universe Facts in Hindi

About Universe in Hindi – ब्रह्माण्ड के बारे में 14 रोचक तथ्य

universe facts in hindi
14 Universe Facts in Hindi

ब्रह्मांण्ड एक ऐसी जगह है जहां सब कुछ है। ब्रह्माण्ड इतना विशाल है कि आप इसके आकार का अनुमान नही लगा सकते। मान लीजिए कि आप ने अनुमान लगा भी लिया कि ब्रह्माण्ड इतना बड़ा है। पर आप के अनुसार जहां ब्रह्माण्ड का अंत होता है उसके आगे भी कोई पदार्थ तो जरूर होगा ही। इसी तरह अगर हम सोचते जाए कि ब्रह्माण्ड इतना बड़ा है तो यह उससे ज्यादा फैलता जाएगा। 1929 ईसवी में हब्बल नामक वैज्ञानिक ने देखा कि आकाशगंगाएँ एक दूसरे से दूर जा रही हैं। तो कई वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया कि शायद ब्रह्माण्ड शुरू में एक बिंदु के जितना होगा और अचानक हुए एक विस्फोट के द्वारा बने कण, प्रतिकण बने जिन से कई आकाशी पिंडो का निर्माण हुआ। और यह तब से निरंतर फैलते ही जा रहै हैं। इस विस्फोट के समय का अनुमान आज से 15 अरब (15×109) साल पहले का लगाया गया है और इसे महाविस्फोट का सिद्धांत कहा जाता है। आइए इस रहस्मई ब्रह्माण्ड के बारे में रोचत तथ्य जानते हैं-

1. आप का T.V. या कोई और आवाज़ पैदा करने वाला रिकार्डर जा music set जब ठीक से नही चल रहा होता तब यह जो बेकार सी आवाज पैदा करता है यह Big Bang(महाविस्फोट) के तुरंत बाद बनने वाली रेडिऐशन का नतीजा है जो आज 15 अरब साल बाद भी है।

2. खगोलविज्ञान के अनुसार हम कहते है कि हर भौतिक वस्तु इस ब्रह्मांण्ड में मौजुद है। इसमें ही खरबों तारे, सौर मंण्डल और आकाशगंगाएं है। पर यह सिर्फ सारी वस्तुओं का 25 प्रतीशत ही है। अभी भी कई ऐसी और चीजों के बारें में पता लगाया जाना बाकी है।

3. अगर नासा एक पंक्षी को अंतरिक्ष में भेजे तो वह उड़ नही पाएगा और जल्दी ही मर जाएगा। क्योंकि वहां पर उड़ने के लिए बल ही नही है।

4. क्या आप को पता है श्याम पदार्थ(dark matter) ब्रह्माण्ड में पाया जाने वाला ऐसा पदार्थ है जो दिखता नही पर इसके गुरूत्व का प्रभाव जरूर पाया गया है। तभी इसे श्याम पदार्थ का नाम दिया गया है क्योंकि यह है तो दिखता नही।

5. अगर आप 1 मिनट में 100 तारे गिने तो आप 2000 साल में एक पुरी आकाशगंगा गिन देगें।

6. महाविस्फोट के बाद ब्रह्माण्ड विस्तारित होकर अपने वर्तमान स्वरूप में आया । पर आधुनिक विज्ञान के अनुसार भौतिक पदार्थ प्रकाश की गति से फैल नही सकता। पर महाविस्फोट सिद्धांत में तो यह पक्का है कि ब्रह्माण्ड 15 खरब साल में 93 खरब प्रकाश वर्ष तक फैल चुका है।(1प्रकाश वर्ष( light year)=प्रकाश के द्वारा एक साल में तय की गई दूरी)। पर इस उलझण को आइंस्टाइन का साधारण सापेक्षतावाद का सिद्धात समझाता है। इसके अनुसार दो आकाशगंगाएँ एक-दुसरे से जितनी दूर है उतने ही अनुपात से यह और दूर होती जाती है। यह तथ्य थोड़ा समझने में कठिन लगेगा मगर जब इसे ध्यान से पढ़ेगें तो कुछ-कुछ समझ आ जाएगा।

milky way in hindi
मंदाकिनी (Image credit-Wikimedia)

7. हमारी आकाशगंगा का नाम मंदाकिनी(Milky way) है, हमारा सौर मंण्डल इसी आकाशगंगा में है। आकाशगंगा का ग्रीक भाषा में अर्थ है- ‘दूध’। अगर आप एक खगोलीए दूरबीन लेकर आकाशगंगओं को देखे तो ऐसा लगेगा जैसे दूध की धारा बह रही हो।

8. द लार्ज मेगालीनिक कलाउड आकाशगंगा सभी आकाशगंगाओं से सबसे ज्यादा चमकदार है। यह केवल दक्षिणी गोलाअर्ध में ही दिखेगी। यह धरती से 1.7 लाख प्रकाश वर्ष दूर है और इसका व्यास 39,000 प्रकाश वर्ष है।

9. Abell 2029 ब्रह्माण्ड की सबसे बड़ी आकाशगंगा है। इसका व्यास 56,00,000 प्रकाश वर्ष है और यह हमारी आकीशगंगा से 80 गुना ज्यादा बड़ी है यह धरती से 107 करोड़ प्रकाश वर्ष दूर है।

10. धनु बौनी आकाशगंगा की खोज 1994 मे हुई थी और यह सभी आकाशगंगायों से धरती के सबसे करीब है यह धरती से 70,000 प्रकाश वर्ष दूर है।

11. ऐड्रोमेडा आकाशगंगा नंगी आखों से देखी जाने वाली सबसे दूर स्थित आकाशगंगा है यह पृथ्वी से 2309000 प्रकाश वर्ष दूर है। इसमें लगभग 300 खरब (30×1011) तारे है और इसका व्यास 1,80,000 प्रकाश वर्ष है।

12. ज्यादातर आकाशगंगाओं की शकल अंडाकार है पर कुछ अपनी शकल बदलती रहती है। हमारी आकाशगंगा मंदाकिनी अंडाकार है।

13. Abell 1835 IR 1916 आकाशगंगा हमारे ब्रह्माण्ड की सबसे दूर स्थित आकाशगंगा है यह धरती से आश्चार्यजनक 13.2 खरब प्रकाश वर्ष दूर है। 2004 में युरोपीय दक्षिणी वेधशाला के खगोलविदों ने इस आकाशगंगा की खोज की घोषणा की ।

14. ब्रह्माण्ड कैंलेडर

महाविस्फोट के बाद कई खगोलीय और धरती की घटनाएँ घटित हुई जिसमें डायनासोरों का जन्म और खातमा शामिल है। यह सारी चीजे बहुत ही ज्यादा समय में घटित हुई जिसे कि एक साधारण मनुष्य नही समझ सकता। इस समस्या से पार पाने के लिए अमरीकी गणितज्ञ और खगोलबिद कार्ल सागन ने ‘ब्रह्माण्ड कैंलेडर’ का सुझाव दिया। इस कैंलेडर में महाविस्फोट से लेकर अब तक के मानव इतिहास को एक साल में दर्शाया गया है। आइए इस कैंलैडर की घटनाएँ जानते है।

1 जनवरी 12:00 am——महाविस्फोट- ब्रह्माण्ड की उत्पती।
15 मार्च—————–पहले सितारो और आकाशगंगाऔ की उत्पती।
1 मई——————-हमारी आकाशगंगा मंदाकिनी की उत्पती।
8 सितंबर—————हमारे सुर्य की उत्पती।
9 सितंबर————–हमारे सुर्य मंण्डल की उत्पती।
12 सितंबर————-पृथ्वी की उत्पती।
13 सितंबर————-चाँद की उत्पती
20 सितंबर————-धरती के वायुमंडल की उत्पती।
1 अक्तुबर————-धरती पे सबसे पहले एक कोशिका जीवो की उत्पती।
7 अक्तुबर————-सबसे पहले के जाने जाने वाले फासिल(पथराट)।
18 दिसंबर————अनेक cells वाले जीवों की उत्पती।
19 दिसंबर————पहली मछली।
21 दिसंबर————पहले स्थली पौदे और कीड़े
23 दिसंबर———–पहले सरीसृप (रेंगने वाले)
24 दिसंबर———–पहले डायनासोर
26 दिसंबर————पहले स्तनपाई
27 दिसंबर———–पहले पक्षी
28 दिसंबर———-पहले फूल वाले पौधे।
29 दिसंबर———-डायनासोरो का खातमा।
31 दिसंबर के रात के 11:55 बजे—–मनुष्यों के कुल इतिहास से अब तक।

More Science Facts in Hindi

Tags : about universe in hindi, universe information in hindi, brahmand

39 thoughts on “ब्रम्हांड की 14 विशाल बातें – Universe Facts in Hindi”

  1. Fact no.9 ke hisab se abela 2029 sabse badi Galaxy hai par an Tak pure space research nahi hui hai to kaise ye badi Hui

    Yeto ab Tak khoji gayi sabse badi Galaxy hai

    Reply
  2. Jo abhi kuch saalo me ye pryog dusra sidh hua hi ki konsa grah kis se kitna dur hai but ved or puran or upnishad me ye lagbhag sari baate hai or usme bhagvan k baare me bhi likha hai to sayad possibility ye jayaadaa hogi ki koi power hai jo ye saari physics ko handal kar rahi hai or sayad vo bhi apni conditions k opposite nahi jas sakti hogi or usi ko different names se pukaarta hoga jese prkrati, bhaganvan or science jo hame kisi k baare me with practical kar k uski information lena kisi object ko base banaa k usko ham science kahte hai but kisi chij ko jaa anaa to maan liya science hi hai but ye sara matter automatic to nahi hua hoga iski possibility sayad bachut kuch had tak sahi ho aane vale salo me ham or bhi janne lag jaayenge but jese marne k baad ham kaha jaate hai but fir bhi supreme power to hoga hi ..science ka matlab ham sab ko pata hai ki kisi bhi chij ka kyu kese kaha kislye hona but ye sab matter automatic set bhi to kisi ne kiya hoga …agar ham last me ese bol de ki starting me automatic hi hua tha big blast ye kya matlab hua …..point
    science kisi bhi chij k baare me ye nahi bolti ye ye apne ap hua saare pata laga k hi vo reply deti hai to big bang automatic hua ye to galat hai science me …kuch honaa kisi karan ki vajah se hota hai to ye baat nahi ho sakti ki automatic big bang hua

    Reply
  3. इंसान लाइट की स्पीड पर कभी भी ट्रेवल नहीं कर सकता क्योंकि लाइट की स्पीड पर ट्रैवल करने के लिए वजन जीरो होना चाहिए अगर कोई इंसान यह बोलता है कि मैंने लाइट की स्पीड से दौड़ने वाला वाहन बनाया है तो उसके बहन के आगे एक टॉर्च लाइट रख दो उसका वाहन कभी भी लाइट की स्पीड से ट्रेवल नहीं कर पाएगा लाइट हमेशा आगे ही रहेंगे मैं बिल्कुल सही बोला ना प्लीज मुझे रिप्लाई करना

    Reply
  4. saahil bhai, aapke blog par jo rochhak jankari padhne ko milti hai, sach me bilkul alhada hai. vah doosri jagahon par kam hi milti hai. kripya aise hi facts sheyar karte rahen.

    Reply
  5. Saroj ji jb ek anu dusre anu se takrata h or ek dusre ko dhakel kr hmare kano tk pahunchta h or shvani hmare kano tk paunchti h

    Reply
  6. मैं यह पूछना चाहता हूँ कि हमारे कान तक ध्वनि किस प्रकार और किस रुप मे पहुँचती है?

    Reply
    • कंपन से ध्वनि पैदा होती है और यह तरंगों के रूप में हमारे कानों तक पहुँचती है।

      Reply
  7. jab es barhmand ke bare me sahi jankari nahi de sakte to bahar ke barhmand ke bare me kaise pata lagaya hame janna hai

    Reply
    • ज्ञान का विस्तार और विकास होते रहता है सूरज जी। जो बातें हमें 100 साल पहले नहीं पता थी, वो अब हैं, जो अब नहीं, वो 100 साल बाद होंगी।

      Reply
  8. Point no.11 check kriye sir…
    Andromeda Galaxy ki dorri bahut jyda like di aapne…
    4.2 light years h jaha Tak Maine padha h sir…
    Maaf kijiyega

    Reply
    • आपने किसी और चीज़ के बारे में पढ़ा होगा। आपकी बताई दूरी बहुत कम है। हमारे सूर्य के सबसे निकट तारा भी हममे 4.367 प्रकाश वर्ष दूर है, जो कि हमारी ही गैलैकसी में है।

      Reply
  9. अगर मानव का जन्म दिसंबर ११:५५ को हुवा इसका मतलब तो यह हुआ कि ..
    मानव के पास अभी सिर्फ ००:०५ समय है। उस हिसाब से देखें तो …
    मानव को पृथ्वी पर अस्तित्व बनाने के लिये शायद हमारी सोच भी ज्यादा समय हुआ है….
    और अगर हमारा univers के बनने से पह्ले क्या रहा होगा??

    Reply
  10. koi na koi to he Jo yeah brahmand ko banaya he humse alag bahut tez dimaag aur anant shaktiyo ka swami warna itna bisal bramhand ko niyamit bidhi se keyse chala raha he…jeyse ek ghar ka mukhya ghar ko chalata he jeyse ek razya ko mukhya mantri aur ek desh ko pm aur world ko sab des ke pm milkar chalate he thik usi tarah is brahmand ko v koi chala rahe he.qunki kisi v bastuon ko thik se ekdam sahi salamat rakhne ke liye us per kisika najar hona jaruri he jeyse ki aap ne ek podha lagaya aur use asehi xod diya to WO axa se badh nahi paayega use koi lataye lipatke use tedha medha kar dega.kuch na kuch adreshya sakti to he Jo is brahmand ko abhi tak sahi niyamit rup se chala raha he air wahi adreshya sakti he bhagwan god..

    Reply
    • There’s a fundamental relationship between matter, energy, and light. Understanding this relationship is key to understanding why matter cannot travel faster than light.

      Reply
  11. Sahil kumar ji yaqeen nan zaroor is bhramand…galaxy… space aur sollar system aur sabhi planet….with earth aur earth me jo kuch hai wo sab aur hum sab human ko banane wala . …..ALLAH ….GOD… hai ….yeh sab kuch khud apne aap nahi bana hai kyon ki koi cheez jab tak nhi ban sakti jab tak uska banane wala na ho aur kisi bhi insaan ke ya bilkul insaan ki tarha dekhne wale jine kuch log …GOD…tak mante hai unke…… bas… me nhi k yeh sab kuch bana sake… hum sab ko marna h jaisa ki hum se pehle log marte aa rahe h a wo bhi mar gaye jo hamari tarha insaan the aur unke hath peer sab hamari tarha the jineh kuch log …God…mante h koi marne wala is itne bade…bhramand..ko. na bana sakta h na chala sakta h ise wo hi bana aur chala sakta h…jise na kabhi moot aye na kabhi bhi mare sab khatam ho jaye sirf wo hi bakhi rahe aur wo kabhi bhi hum jaisa nahi dikh sakta h jab hum uske poore …bhramand…ko nahi dekh sakte aur to aur us ke banaye hue suraj ko bi ik lamhe se zayda nhi dekh sakte to use kya dekh sakte h wo hum sab ko dekh raha har cheez ko chala rha h har power uske paas h …wo supar power hai….sirf……..ALLAH…. jo ek hai… us se bada aur uske bara bar koi nahi dostoon…. Raja…(King) kabi do nahi hote wo akela hi raaj karta hai..for example….A….pehla word hai… A.B.C.D…me….aur …AA…se AANAR …..hindi me pehla word aur ….ALIF JO URDU ME…pehla word hai aur duniya ki sari bhasha me pehle word se …ALLAH….likha jata hai…. Allah is 1st….ALLAH is Great…Allah is only one God…. aur koi bhi …Allah….ke aage kisi aur ko …GOD….sabit nahi kar sakta agr kar de to …Allah ki qasam use apni…. JAAN…GIFT…..kar duuu… sach me….yeh sab kuch bilkul sach hai Dostoon………

    Reply
    • मुझे समझ नहीं आती कि अगर कोई अल्ला जा भगवान है तो वो सबसे आकर कह क्यों नही देता कि भई सब मिलकर रहो, प्यार से रहो। अगर सब अल्ला ने बनाया है तो बुद्ध, मंगल, शुक्र, जुपीटर आदि ग्रहों पर भी तो उसे जीवन की व्यवस्था करनी चाहिए थी ना?

      Reply
      • Iska ans me De sakta hu but 1 condition he pehle ye batao ki apke bhagwan ne apko is duniya me kyu bheja h?? Paise kamane? Facebook chalane? Ya fir time pass krne? Gf banane? Rzn bataoo to m apke is que ka ans dunga jo ki h mere pas Mr. Shahil kumar urf ajay devgan fan..shayad fan banne bhej h

        Reply
        • आपको क्या करने भेजा है, बता दीजिए। शायद आपको ऊपर से बताकर भेजा हो जो हमें भी पता चल जाए।

          Reply
      • sir agar sara kam bhagwan krenge to hm insano ko kam krne ki jaroorat nhi h
        usne srf hmare rhne k liye ye grah banaya h
        hamara science itna wiksit ho gya pr wo abhi tk ye nhi bata ska ki swarg ye nrk h ya nhi
        ye khud ek planate kyo nhi bana leti jaha ye life start kr ske batao
        plz respect to god ok
        i hope u wil understand my talkings

        Reply
      • Nice sir duniya me bhagwan or allah he to logone banay he but asal me bat kuch or hi he vigyan jese jese vikshit hotahe vesevese bhagwan or allah ki manne ki simay fhel ti ja rhiye muze to ye sirf y 1 sanjog lagta he agar bhagwan ya allah hote to duniya me beimani na hoti bhrstachar nahota but koi to chij he energy

        Reply
    • yeh jo Space hai… usko Allah God ne nahi banaya… balki yeh Space is Allah God hai… isliye hi woh jo Allah hai… Woh jo God hai.. usko Nirakaar kahte hai….

      Reply
    • bhai ek chij ekdam sach sach batata hoon mai , bhai bahen log, dekho. AGAR IS DUNIYA SE BHAGWAN, ISSA MASIH, JISUS,ALLAH, KHUDA,ISWAR, AADI-ETYADI VAGARAAH VAGARAAH NAAM HAAT JAY N TO PHIR DUNIYA DEKHO, N DANGE-VANGE, ATANKWAAD , DISCRIMINATION,JAAT PAAT khatam ho gayi or hum sukhi se rahne lage n to phir mera naam UTKARSH SINGH VK nahi. VK for Virat Kohli i am fan of him. . agar bhagwaan hote n to phir science jaroor pata laga leta.

      Reply
  12. Nice post sahil ji bahut achhe sahil bhai btaiye k mai space scientist ba na chahta hun kaise tayyari karu kaun se sub.pe dhiyAn du

    Reply
  13. भाई साहिल आपका बहुत बहुत धन्यवाद।
    इस तरह कि जानकारी देने के लिए

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!