मोर के बारे में 21 रोचक जानकारियां | Peacock in Hindi

मोर Peacock in Hindi

मोर एक सुंदर पक्षी है जो भारतीय उपमहाद्वीप, दक्षिणपूर्वी एशिया और अफ्रीका महाद्वीप के कांगो बेसिन में पाया जाता है। मोर को पक्षियों का राजा कहते हैं, क्योंकि बरसात के मौसम में काली घटा छाने पर यह पक्षी जब पंख फैला कर नाचता है, तो ऐसा लगता है कि मानो इसने हीरों से जड़ी शाही पोशाक पहन रखी हो। इसके सिवाए इसके सिर पर लगी ताज जैसी कलगी भी इसे पक्षियों के राजे का खिताब देती है।

आइए, मोर के बारे में कुछ रोचक जानकारियां जानते हैं-

1. भारतीय उपमहाद्वीप और इसके साथ लगे दक्षिणपूर्वी एशिया में मोर की दो अलग-अलग प्रजातियां पाई जाती हैं। भारतीय उपमहाद्वीप में पाए जाने वाले मोर को नीला या भारतीय मोर कहते हैं जबकि दक्षिणपूर्वी एशिया में पाए जाने वाले मोर को हरा मोर कहते हैं।

2. नीले और हरे के सिवाए मोर का रंग सफ़ेद, जामनी और धुमैला (grey) भी हो सकता है।

3. भारत सरकार ने मोर की अद्भुत सुंदरता के कारण 26 जनवरी 1963 को इसे राष्ट्रीय पक्षी का दर्जा दिया था। नीला मोर भारत का राष्ट्रीय पक्षी है जबकि हमारे पड़ोसी देश म्यांमार का राष्ट्रीय पक्षी धुमैला मोर (Grey peacock) है।

4. हिंदू धर्म में मोर को उच्च कोटि का दर्जा प्राप्त है। भगवान् श्री कृष्ण के मुकुट में लगा मोर का पंख इस पक्षी के महत्त्व को दर्शाता है।

5. भारत के इतिहास के सबसे विशाल साम्राज्य मौर्य साम्राज्य का राष्ट्रीय चिन्ह भी मोर हुआ करता था। चंद्रगुप्त मौर्य के राज्य में जो सिक्के चलते थे, उनके एक तरफ मोर बना होता था।

6. मुगल बादशाह शाहजहां जिस तख्त पर बैठता था, उसकी रचना भी मोर जैसी ही थी। दो मोरों के बीच बादशाह की गद्दी थी तथा पीछे पंख फैलाये मोर। इस तख्त को तख़्त-ए-ताऊस कहा जाता था। ताऊस अरबी भाषा का शब्द है, जो मोर के लिए उपयोग होता है।

7. किसी मोर के लिंग का पता लगाना बेहद आसान है। नर मोर के सिर पर लगी कलगी आकार में बड़ी होती है जबकि मादा मोर की कलगी छोटी होती है।

8. मोर के पंख काफी ज्यादा प्रसिद्ध हैं। लेकिन यह केवल नर मोर में ही पाए जाते है। एक मोर की पूंछ पर लगे गुच्छे में 150 की गिणती तक पंख हो सकते हैं।

9. साल में वर्षा ऋतु के दौरान, यानि कि अगस्त के महीने में मोर के सभी पंख झड़ जाते है। लेकिन गर्मिया आने से पहले यह पंख फिर से निकल आते हैं।

10. मोर का औसतन जीवकाल 10 से 25 वर्ष का होता है।

11. मोर का वैज्ञानिक नाम पैवो क्रिस्टेटस (Pavo cristatus) है।

12. अंग्रेज़ी में इस पक्षी को Peafowl कहा जाता है। नर मोर को Peacock जबकि मादा मोर को Peahen कहा जाता है।

13. मोर एक सर्वाहारी पक्षी है जो घास, पत्ते, चने और गेहूं से लेकर कीड़े-मकोड़ों और सांप तक को भी खा सकता है।

14. मोर किसानों का मित्र पक्षी है। यह खेतों में से कीड़े-मकोड़े, चूहे, छिपकलियां, दीमक व सांपों को खा जाता है। लेकिन खेतों में खड़ी लाल मिर्च देखकर मोर उसे खा भी जाता है, जिससे किसानों को थोड़ा नुकसान भी होता है।

15. मोर वैसे तो जंगलों में रहना पसंद करता है, लेकिन भोजन की खोज इसे इंसानी आबादी तक ले आती है।

16. रहने के लिए मोर दूसरे पक्षियों की तरह किसी प्रकार का विशेष घोंसला या घर नहीं बनाते हैं।

17. मादा मोर साल में दो बार अंडे दे सकती है। एक बारे में अंडों की संख्या 4 से 8 तक हो सकती है।

18. मोरनी ज्यादातर गड्ढों में अंडे देती है। अंडों से बच्चे निकलने में 25 से 30 दिन तक का समय लग सकता है।

19. नन्हें मोरों को बड़ा होने में तीन-चार साल लग जाते है, लेकिन बेहद कम बच्चे ही बड़े हो पाते हैं, क्योंकि इससे पहले ही कुत्ते और अन्य जानवर इन्हें खा जाते हैं।

20. चीते और तेंदुए जैसे शिकारियों से खतरे का आभास होते ही मोर उड़ कर पेड़ों में छिप जाते हैं।

21. यह सबसे बड़े उड़ने वाले पक्षियों में से एक हैं। पूंछ समेत इनकी लंबाई 5 फीट तक पहुँच सकती है।

More Animals
  • ऑक्टोपस समुंद्री जीव के बारे में 14 रोचक जानकारियां
  • बुलबुल पक्षी से जुड़े 17 मज़ेदार तथ्य
  • बकरी से जुड़ी 12 मजेदार जानकारियां

Note : इस पोस्ट में मोर/Peafowl पक्षी के बारे में रोचक तथ्य बताए गए हैं। अगर आपको किसी और जानवर या पक्षी के बारे में जानकारी चाहिए तो कृपा हमारी Animals/Birds Category देखें।

Comments

  1. Indrasinh Solanki

    Reply

  2. yoge Veer Kumar

    Reply

  3. Raushan Kumar

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!