अल्जीरिया | इतिहास, भूगोल और अर्थव्यवस्था की जानकारी |

अल्जीरिया उत्तरी अफ्रीका में स्थित एक लोकतांत्रिक सुन्नी मुस्लिम देश है। अल्जीरिया की राजधानी और सबसे ज्यादा आबादी वाला शहर अल्जीयर्स (Algiers) है। लगभग 23 लाख 81 हज़ार वर्गकिलोमीटर के क्षेत्रफल के साथ अल्जीरिया दुनिया का दसवां सबसे बड़ा और अफ्रीका महाद्वीप का सबसे बड़ा देश है। आज इस पोस्ट में हम आपको अल्जीरिया देश के इतिहास, भूगोल और अर्थव्यवस्था से जुड़ी जरूरी जानकारियां देंगे।

अल्जीरिया

Country People's Democratic Republic of Algeria
Region Northern Africa
Capital Algiers
Official Language Arabic/Berber/English/French
Independence 5 July 1962 (From France)
Area 23'81'741 km²
Population 4 Crore 40 Lakh (2016)
Population Density 15.9/km²
Phone Code 213
Currency Dinar (DZD)
Internet TLD .dz

अल्जीरिया का इतिहास – Algeria History in Hindi

प्राचीन समय में अल्जीरिया को नुमीडिया (Numidia) के नाम से जाना जाता था। नुमेडियन लोग अपनी घोड़सवार सेना के लिए जाने जाते थे। नुमेडियन लोग बाद में बर्बर (Berbers) कहलाए जाने लगे। (ध्यान दीजिए यहां बर्बर का मतलब जालिम नहीं है, बल्कि इनकी जाती का नाम ही बर्बर है।)

भूमध्य सागर के किनारे पर स्थित होने के कारण अल्जीरिया की धरती कई भूमध्यसागरीय महान साम्राज्यों का हिस्सा भी रही है। इस देश की धरती किसी समय शक्तिशाली साम्राज्य कार्थेज़ (Carthage – 7th to 3rd centuries BC) का हिस्सा थी। बाद में यह रोमन गणराज्य (509 to 27 BC) और रोमन साम्राज्य (27 BC to 1453 AD) का हिस्सा भी रही।

8वीं शताब्दी में अरब लोग यहां पर आए और यहां के बहुत से लोग मुसलमान बन गए। इस क्षेत्र के कई हिस्से अपनी स्वतंत्रता बनाए रखने में कामयाब रहे, लेकिन भूमध्यसागरीय महान साम्राज्य अल्जीरियाई इतिहास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा थे।

मध्य युग के दौरान अल्जीरिया के अलग अलग हिस्सों पर विभिन्न जनजातियों और बर्बर जाति के लोगों का शासन रहा। 16वीं सदी में स्पेन ने यहां के कई शहरों और बस्तियों पर कब्ज़ा कर लिया। इसके बाद शक्तिशाली तुर्क साम्राज्य ने यहां हस्तक्षेप किया और अल्जीरिया जल्द ही तुर्क साम्राज्य का हिस्सा बन गया।

19वीं सदी में फ्रेंच लोगों ने अल्जीरिया पर हमला कर दिया और यहां की बड़ी आबादी को मौत के घाट उतार दिया। अल्जीरिया का ज्यादातर हिस्सा 20वीं सदी के मध्य तक फ्रांस के कब्ज़े में रहा।

20वीं सदी के मध्य में अल्जीरिया के लोगों ने फ्रांसीसी शासन के खिलाफ विद्रौह करना शुरू कर दिया। साल 1954 में नेशनल लिबरेशन फ्रंट (LLF) का गठन हुआ जिसने फ्रांसीसी शासन के विरुद्ध हिंसात्मक विद्रौह शुरू कर दिया। 1962 में अल्जीरिया ने स्वतंत्रता प्राप्त कर ली और लगभग 10 लाख फ्रांसीसी लोग अल्जीरिया छोड़ भाग गए।

अल्जीरिया का भूगोल – Algeria Geography in Hindi

उत्तरी अफ्रीका में स्थित होने के कारण अल्जीरिया का ज्यादातर हिस्सा ऊँचे पठारों और सहारा मारूस्थल से ढका पड़ा है। वास्तव में देश के 90% से ज्यादा हिस्से में सहारा मारूस्थल फैला हुआ है। यहीं वजह है कि यहां का जनसंख्या घनत्व महज 15.9 जन प्रतिवर्गकिलोमीटर है।

देश के उत्तर में एटलस पर्वत है और दक्षिण में अगागर पहाड़ियां। अगागर पहाड़ियों को Hoggar Mountains और Ahaggar Massif भी कहा जाता है।

देश के कुछ हिस्सों में लहरेदार पठार भी हैं जिनकी ज्यादा से ज्यादा ऊँचाई 1300 मीटर तक और कम से कम ऊँचाई 400 मीटर तक है।

अल्जीरिया की सबसे बड़ी झील का नाम चट मेलरिहर (Chott Melrhir) है जो लगभग 6700 वर्गकिलोमीटर के क्षेत्रफल में फैली हुई है। यह एक नमकीन पानी की झील है जिसका आकार सालभर बदलता रहता है। यह झील अल्जीरिया का सबसे निचला बिंदु भी है जिसकी समुंद्र तल से ऊँचाई -40 मीटर है।

देश के उत्तर में भूमध्य सागर के किनारे किनारे कुछ तंग तटीय मैदान भी हैं जो पहाड़ियो से घिरे हुए है। यहां कुछ छोटी नदियां भी देखने को मिलती हैं।

अल्जीरिया की अर्थव्यवस्था – Economy of Algeria in Hindi

प्रमुख उद्योग : पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस, हल्के उद्योग, खनन, पेट्रोकेमिकल और Food Processing.

कृषि उत्पाद : गेहूं, जौ, जई (oats), अंगूर, जैतून, फल और भेड़ और अन्य पशु पालन।

प्राकृतिक संसाधन : पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस, कच्चा लौहा, फॉस्फेट, यूरेनियम, सीसा (lead) और जस्ता।

प्रमुख निर्यात : पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस, और पेट्रोलियम उत्पाद।

प्रमुख आयात : पूंजीगत सामान, खाद्य पदार्थ और उपभोक्ता सामान।

More Countries Information

अगर आपको अल्जीरिया के इतिहास, भूगोल और अर्थव्यवस्था की जानकारी के सिवाए और भी कोई जानकारी चाहिए तो आप कमेंट कर सकते हैं। धन्यवाद।

Comments

  1. SONU

    Reply

  2. Avinash Singh

    Reply

    • Reply

  3. Ram dhakad

    Reply

  4. Omkar

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!