बैक्टीरिया जा जीवाणु क्या होते हैं? जीवाणुओं से जुड़े 21 मज़ेदार तथ्य जानिएं

Bacteria in Hindi

बैक्टीरिया जिन्हें हम हिंदी में जीवाणु कहते है, छोटे-छोटे एककोशिकीय जीव (Unicellular organisms) हैं जो पूरी पृथ्वी पर हर जगह पाए जाते है। यह मिट्टी में, पानी में, पृथ्वी के अंदर गहराई में, पौधों में, जीवों में और हमारे शरीर में भी पाए जाते हैं।

बैक्टीरिया जा जीवाणु पूरे जीव मंडल का एक अहम हिस्सा है। आइए आपको इनके बारे में कुछ रोचक और मज़ेदार तथ्य बताते हैं-

1. हमारे शरीर में मौजूद सभी जीवाणुओं का कुल वज़न लगभग डेढ़ किलो होता है।

2. आपके मुंह में कुल जीवाणुओं की संख्या मनुष्यों की कुल आबादी से ज्यादा है।

3. हाल ही में वैज्ञानिकों ने हमारी नाभि में 1458 प्रकार के नए जीवाणुओं की किस्मों की खोज़ की है।

4. एक साफ़-सुथरें मुंह में भी हर एक दांत पर 1 हज़ार से 1 लाख तक बैक्टीरिया हो सकते हैं।

5. एक जीवाणु का आकार 0.5–5.0 micrometers तक होता है और इनकी आकृति गोल या चक्राकार से लेकर छड़, आदि आकार की हो सकती है। (1 meter में 10 लाख micrometers होते हैं।)



6. पानी को साफ़ करने के लिए अगर हम उसमें क्लोरीन मिला दें तो उसका असर 6 महीने तक रहता है। इसके बाद पानी में बैक्टीरिया बढ़ने लगते है।

7. एक सामान्य नोट पर 3 हज़ार प्रकार के लाखों बैक्टीरिया होते है। हालाकि हमारे मोदी जी के नए नोटों पर इनकी संख्या कम हो सकती है। 🙂

8. दूध से दही का बनना भी एक जीवाणु के कारण होता है। इस जीवाणु का नाम है – लैक्टोबैसिल्ली (Lactobacilli)।

9. चीज़ों को सड़ा गला कर खाद की शक्ल देना भी बैक्टीरिया द्वारा ही होता है।

10. अनेक प्रकार के परजीवी जीवाणु कई रोग उत्पन्न करते हैं, जैसे – हैजा, मियादी बुखार, निमोनिया, तपेदिक और प्लेग इत्यादि। सिर्फ तपेदिक रोग से प्रतिवर्ष लगभग 20 लाख लोगों की मृत्यु हो जाती है।

11. सभी बैक्टीरिया हानिकारक नहीं होते हैं। कुछ बैक्टीरिया हमारे लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। पाचन तंत्र को कुछ बैक्टीरिया की आवश्यकता होती है।

12. नासा के वैज्ञानिकों ने उनके द्वारा खोजे गए एक नए जीव को भारत के पूर्व राष्ट्रपति और अंतरिक्ष वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर ‘कलामी‘ नाम दिया है। अभी तक यह जीवाणु सिर्फ अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) में ही मिलता था। यह पृथ्वी पर नहीं पाया जाता था।

13. जब दो लोग एक दूसरे को Kiss करते है, तो दोनों में एक करोड़ से लेकर 10 करोड़ तक जीवाणुओं का ट्रांसफर हो जाता है।

14. ज्यादातर एंटीबायोटिक दवाएं (antibiotics) जीवाणुओं से ही तैयार की गई हैं।

15. एक Office Desk पर एक Toilet Sheet के मुकाबले 400 गुणा ज्यादा जीवाणु होते हैं। और आपके Mobile पर भी Toilet Sheet के मुकाबले 18 गुणा ज्यादा जीवाणु होते है और Keyboard पर 200 गुणा ज्यादा।

16. पृथ्वी पर सबसे शक्तिशाली जीव गोनोरिया (gonorrhea) नाम का बैक्टीरिया है जो अपने वज़न से 1 लाख गुणा ज्यादा वज़न उठा सकता है। मनुष्यों में यह सेक्स रोग का कारण बनता है। असुरक्षित यौन, गुदा या मुख मैथुन आपके गले, मुत्र नली, योनि और गुदा को संक्रमित कर सकता है।

17. जिन जगहों पर काम करने वालों में पुरूषों की संख्या ज्यादा हो वहां पर जीवाणुओं की संख्या भी ज्यादा होती है।

18. साल 2013 में न्युजीलैंड में एक ऐसा बैक्टीरिया पाया गया था जो हर तरह की एंटीबायोटिक दवाई को बेअसर कर सकता है।

19. नए जन्म लेने वाले बच्चों के शरीर में एक भी बैक्टीरिया नहीं होता है।

20. अश्वनाल एक समुंद्री केकड़े की किस्म है जिसका खून 9 लाख रूपए प्रतिलीटर तक बिकता है क्योंकि वो बैक्टीरिया का पता आसानी से लगा सकता है।

21. आपने यह तो सुना होगा कि गंगा नदी का का पानी कभी खराब नहीं होता, तो इसका कारण भी जान लीजिए। वैज्ञानिकों का कहना है कि गंगा के पानी में ऐसे बैक्टीरिया हैं, जो पानी को सड़ाने वाले कीटाणुओं को पनपने नहीं देते और जिस कारण यह लंबे समय तक खराब नहीं होता।



Note : अगर आपके पास Bacteria in Hindi के बारे में और Information हैं, या दी गयी जानकारी में कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें Comment में लिखे। हम इसे Update करते रहेंगे।

Comments

  1. Deepak

    Reply

  2. Vikash

    Reply

  3. Dilip Mothariya

    Reply

  4. कबीर

    Reply

    • Reply

      • कबीर

        Reply

        • Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!