वैज्ञानिकों के लिए राज बने हुए हैं 4500 साल पुराने ये ” स्टोनहेंज ” के पत्थर!

stonehenge in hindi

स्टोनहेंज इंग्लैंड में स्थित एक प्राचीन स्मारक है जो बड़ी – बड़ी चट्टानों को व्यवस्थित करके बनाया गया था। वैज्ञानिकों के अनुसार इसे किसी एक समय में नही बल्कि 4500 से 3000 साल पहले इसके अलग-अलग हिस्सों को अलग – अलग समय पर बनाया गया था।

स्टोनहेंज के पत्थर लगभग 13 फीट ऊँचे है और थोड़े से जमीन में गड़े हुए है। शूरू में स्टोनहेंज नीचे दिए चित्र की तरह दिखता था पर समय बीतने के साथ इसके कई पत्थर नीचे गिर गए।

stonehenge history in hindi

वैज्ञानिकों का अनुमान है इस स्मारक का उपयोग वेधशाला (Observatory) के रूप में किया जाता था क्योंकि स्टोनहेंज की स्थिती ग्रीष्मकालीन संक्राति (21 जून) को प्रकट करती है और यदि इसे उलटा कर दिया जाए तो यह सर्दकालीन संक्राति (23 दिसंबर) की स्थिती को दर्शाता है।



वैज्ञानिकों की कई टीमों ने मिलकर लगातार 4 साल तक स्टोनहेंज के आसपास की 3 हज़ार एकड़ जमीन की खुदाई की जिससे कई चौकानें वाली चीज़े सामने आई-

→खुदाई में पांच से ढाई हज़ार साल पहले के मानवों की कई हड्डियां मिली है जिससे अनुमान लगाया गया है कि स्टोनहेंज के आसपास के क्षेत्र में कई कब्रिस्तान थे।

→खुदाई में बर्तन, औज़ार और हथियारों समेत कई चीज़ें मिली है जिससे अनुमान लगाया गया है कि लंबे समय तक यहां पूरी की पूरी सभ्यता बसी हुई थी।

superhenge in hindi

→स्टोनहेंज से लगभग 4 किलोमीटर की दूरी पर खुदाई में मिले लगभग 90 बड़े – बड़े पत्थरों ने सब को चौंकाकर रख दिया है। यह सभी पत्थर अंग्रेज़ी के C जैसी शक्ल बनाते है। इन्हें सुपरहेंज का नाम दिया गया है।

यह भी पढ़ें-

For You :
loading...

Comments

  1. Vijay

    Reply

  2. prashant rawat

    Reply

    • Reply

  3. sandeep shaw

    Reply

    • Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!