अगर अच्छी जिंदगी जीनी है तो सिर्फ इन फिल्मों को देखना होगा !

फिल्मों का समाज पर प्रभाव

filmo फिल्मों

Friends, India में हर साल तरह – तरह की एक हज़ार से भी ज्यादा फिल्में रीलीज़ होती है। इन फिल्मों से हमारा जीवन बहुत ज्यादा प्रभावित होता है।

यह एक मनोवैज्ञानिक सच है कि हम जिस तरह के माहौल में रहते है उसका हमारी जिंदगी पर Positive जा Negative effect पड़ता है।

परंतू आज टीवी ओर सिनेमा के युग में आने वाली फिल्में और सीरीयल भी हमारी जिंदगी को उतना ही प्रभावित करते है जितना कि हमारा माहौल हमें प्रभावित करता है।

एक तरह से देखा जाए तो आज टीवी सिनेमा हमारी जिंदगी को हमारे माहौल से ज्यादा प्रभावित करते है क्योंकि लोगों का मेलजोल दूसरे लोगों से कम और टीवी से ज्यादा हो रहा है।

परंतु दुखद बात यह है कि मनोरंजन के नाम पर टीवी और सिनेमा Positive effect कम और negative effect ज्यादा डाल रहे हैं।

उदाहरण के तौर पर अगर आप 60 से 80 के दशक की फिल्मों को देखोगे तो पाओगे की फिल्म की अधिकतर नायिका (Heroine) साड़ी या सूट पहनती थी और यही आम महिलाए भी पहनती थी। उस समय खलनायिकाए ही स्कर्ट, स्लेक्स, और अंग प्रदर्शन करने वाले कपड़े पहनती थी। बाद की फिल्मों मे नायिकाओ ने यह भेद मिटा दिया। अब आप कपड़े देख कर नहीं पहचान सकते की यह नायिका है या खलनायिका। अब यही कपड़े आम महिलाएँ भी पहन रही है। कहने का अर्थ यह है की फिल्मे आम जन जीवन पर गहरा प्रभाव डालती हैं। आज की पीढ़ी भी नायक, नायिकाओं का फैशन को follow कर रहे हैं।

ऐसी ही एक दूसरी उदाहरण है जिसमें एक फिल्म मे जैकी श्राफ मैकेनिक बने थे और एक अमीर लड़की जो अपनी कार ठीक कराने आती है, दोनों प्यार मे डूब जाते हैं। अब उन्ही दिनो की बात है, हमारे पड़ोस मे एक डाक्टर के घर के बाहर सड़क पर एक स्कूटर मैकेनिक अपनी दुकान लगा कर काम करता था और डाक्टर की बेटी अपना स्कूटर उससे ठीक करवाती थी, एक दिन दोनों घर छोड कर भाग गए।

आजकल की फिल्मों ने तो हद ही पार कर दी है। आज भारत का अधिकतम युवा नशा करते, लड़की पटाते और भाईगिरी करते हुए ज्यादा दिखते है, ये सब बॉलीवुड का असर है। आज बॉलीवुड में सिर्फ भाईगिरी और रोमांस ही दीखता है। अपराधियों और डॉन को बढ़ा चढ़ा कर दिखाते है जिससे युवा का मन अपराध करने के लिए करता है। आज ऐसा भी दिन आ चुका है की अब लोग पोर्नस्टार को भी समर्थन कर रहे है.

इस तरह से हम देख सकते है कि फिल्मों ने सामाजिक जीवन को बिगाड़ के रख दिया है। इसमें सुधार लाने की आवश्यक्ता है।

ऐसी फिल्में बनाने की जरूरत है जो लोगों में सकारात्मकता (positivity) फैलाए तथा देशभक्ति की भावना पैदा करे।

अमेरिका इस बात को बखूबी जानता है इसलिए वह देशभक्त फिल्में बनाने के लिए फिल्म निर्माताओं को सबसिडी भी देता है। अगर आप अमेरिका में बनी फिल्में देखेंगे तो पाएंगे कि हर दूसरी तीसरी फिल्म में यही सिद्ध किया जाता है कि – America is the Greatest Country. अगर पृथ्वी पर कोई एलिएन अटैक होता है तो वह हमला अमेरिका पर ही होता है और अमेरिका ही पूरी दूनिया को बचाता है।

पर सुखद बात यह कि भारत में भी ऐसी बहुत सारी फिल्में बनी है जिनका समाज तथा युवा – वर्ग पर अच्छा प्रभाव पड़ता है।

इस पोस्ट में हम आपको ऐसी ही फिल्मों की लिस्ट देंगे। यह कोई परिपूर्ण लिस्ट नही है ब्लकि मेरे दिमाग में जो भी अच्छी फिल्म आती गई मैं उसका नाम लिखता गया। अगर आपको लगता है इस लिस्ट में ऐसी कोई फिल्म नही है जिसे होना चाहिए था तो आप उसके बारे में कमेंट में बता सकते हैं।

Modern Hindi Films

A to E

Airlift, Agnipath, Ajjnabi, Akira, Baby, Big Brother, Border, Chennai Express, Commando – A One Man Army, Chandni Chownk to China, Chak De India, Dhoom 2,

F to J

Gajni, Gabbar Is Back, Gadar – Ek Prem Katha, Holiday, Indian, Jo Bole So Nihal, Jurm, Jaani Dushman,

K to O

Koi Mil Gya, Krissh , Krissh – 3, Khiladi, Khiladiyon Ka Khiladi, International Khiladi, Sabse Bada Khiladi, Mr, & Mrs. Khiladi, Main Khiladi Tu Anari, Ladla, Loafer, Lagan, LOC Kargil, Mangal Panday, Ma Tujhe Salam, Nayak, Mohenjo-daro, Netaji Subhas Chandra Bose: The Forgotten Hero, O God Tusi Great Ho,

P to Z

Pardesh, Queen, Robot, Rowdy Rathore, Rustom, Singham, Sooryavansham, Three Idiots, The Legend of Bhagat Singh (Ajay Devgan), 23rd March 1931: Shaheed (Bobby Deol) , Shivaay, Tumare Hawale Vatan Sathiyo, Taare Zameen Par, Vivah, 16 December

Classical Hindi Films – पुरानी फिल्में

Classical Films में से हम किसी भी फिल्म का नाम नही देंगे क्योंकि उनमें से 90 प्रतीशत फिल्में अच्छी है और हम कोई खास बुरा प्रभाव नही डालती।

South Films – Dubbed in Hindi

filmo फिल्मों

Aparichit, Bahubali, Chennai Vs China, Diler, Dhasaavtar, Mass – A One Man Army, Linga, The Real Jackpot, Shivaji – The Boss

अगर आपको इस पोस्ट में मेरे विचार अच्छे लगे तो कृपा अपना सार्थक कमेंट जरूर दीजिएगा। आलोचनाओं का भी स्वागत है।

loading...

Comments

  1. anhad agnihotri

    Reply

    • Reply

  2. bhupendra patel

    Reply

    • Reply

  3. Nilesh kumar

    Reply

  4. abhijeet kumar

    Reply

    • Reply

  5. vikesh sahu

    Reply

  6. Sunil kumar

    Reply

  7. Pradeep mukati

    Reply

  8. gopal jat

    Reply

    • Reply

  9. Anonymous

    Reply

    • Reply

  10. Ashish

    Reply

  11. Sabhimani

    Reply

  12. Reply

  13. gursewak gill

    Reply

    • Reply

  14. हिमांशु कुमार

    Reply

  15. bishekh tiwari

    Reply

  16. NITIN

    Reply

  17. navneet

    Reply

    • Reply

  18. Reply

    • Reply

      • Reply

        • Reply

  19. FAREED KHAN

    Reply

  20. Amzad Ansari

    Reply

    • Reply

      • Anonymous

        Reply

        • Reply

  21. Amzad Ansari

    Reply

    • Reply

      • Dinesh

        Reply

      • Prakhar Mishra

        Reply

  22. Reply

    • Reply

  23. Asmal multani

    Reply

  24. Cp gupta

    Reply

  25. ramesh

    Reply

    • Reply

  26. vinod Bhabhar

    Reply

    • Reply

  27. parveen gujjar

    Reply

  28. mukesh kumar

    Reply

  29. sebastian hansda

    Reply

    • Reply

  30. Rochak Bhasin

    Reply

  31. Rahul kumar bharti

    Reply

  32. Laeek khan

    Reply

  33. Brajesh kumar

    Reply

  34. jyoti

    Reply

    • rahul sharma

      Reply

  35. Reply

  36. saroj

    Reply

    • Reply

  37. brijendra kumar

    Reply

  38. Hariom

    Reply

    • Reply

  39. Aman

    Reply

  40. Reply

    • Reply

  41. Reply

    • Reply

  42. Bobby walia

    Reply

  43. Bobby walia

    Reply

    • Reply

  44. Reply

    • Reply

  45. Anonymous

    Reply

    • Reply

      • Anonymous

        Reply

        • Reply

  46. vikash kumar

    Reply

  47. mahendra yadav

    Reply

    • Reply

  48. madhu chauhan

    Reply

  49. Manjeet kumar

    Reply

    • Reply

  50. Pankaj verma

    Reply

    • Reply

  51. Anonymous

    Reply

  52. Anonymous

    Reply

  53. ABHIJIT

    Reply

  54. princerocks

    Reply

  55. Kishan kanhaiya

    Reply

  56. Purav

    Reply

  57. Anonymous

    Reply

  58. Anonymous

    Reply

  59. dinesh kasbe

    Reply

  60. ravi kumar

    Reply

    • Reply

      • akk

        Reply

  61. Shahrukh

    Reply

    • Reply

  62. ramniwas jha

    Reply

  63. Reply

  64. anita arya

    Reply

  65. Shahnawaz Alam

    Reply

    • Reply

  66. Amit

    Reply

  67. Dev choudhary

    Reply

    • Reply

  68. Dev choudhary

    Reply

    • Reply

  69. Damaram dhaka

    Reply

  70. riyaz ahmad

    Reply

  71. Anonymous

    Reply

  72. Jagdeep Singh

    Reply

    • Reply

      • Jagdeep Singh

        Reply

        • Reply

  73. Garvit Joshi

    Reply

    • Reply

  74. Pankaj Kumar

    Reply

  75. Sooraj singh

    Reply

    • Reply

  76. Dinesh Akhadiya

    Reply

  77. Reply

  78. aakash dewangan

    Reply

  79. थान सिंह धाकड़

    Reply

  80. sajid

    Reply

    • Reply

  81. manish

    Reply

    • Reply

  82. Reply

    • Reply

  83. Akshu Tyagi

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!