बृहस्पति ग्रह के बारे में जानकारी – About Jupiter Planet in Hindi

About Jupiter Planet in Hindi – बृहस्पति ग्रह के बारे में जानकारी

Jupiter Planet in Hindi

About Jupiter Planet in Hindi

बृहस्पति ग्रह सूर्य से दूरी अनुसार पांचवा ग्रह है। यह आकार और द्रव्यमान(वज़न) में बाकी सभी ग्रहों से बड़ा है। यह धरती से सूर्य, चाँद और शुक्र के बाद सबसे ज्यादा चमकीला दिखता है।

बृहस्पति ग्रह की रूपरेखा – Jupiter Planet Profile

द्रव्यमान (Mass) – 18,98,130 खरब किलोग्राम (पृथ्वी से 317.83 गुणा ज्यादा)
भू – मध्य रेखिए व्यास (Equaterial Diameter) – 1,42,984 किलोमीटर
ध्रुवीय व्यास (Polar Diameter) – 1,33,709 किलोमीटर
भू-मध्य रेखा की लंबाई (Equaterial Circumference) – 4,39,264 किलोमीटर
ज्ञात उपग्रह – 67
सूर्य से दूरी – 77 करोड़ 83 लाख 40 हज़ार 821 किलोमीटर या 5.2 AU (1 AU = सूर्य से पृथ्वी की दूरी)
एक साल – पृथ्वी के 11.86 साल (4332.82 दिन) के बराबर
सतह का औसतन तापमान – -108°C

बृहस्पति/जुपीटर ग्रह के रोचक तथ्य – Jupiter Planet Facts in Hindi

Jupiter earth comparison

जुपीटर और पृथ्वी की तुलना (Image source – Universetoday.com)

1. अकेले बृहस्पति का द्रव्यमान बाकी सभी ग्रहों के कुल द्रव्यमान से ढाई गुणा ज्यादा है। पृथ्वी से 317.83 गुणा ज्यादा है।

2. बृहस्पति का एक दिन बाकी सभी ग्रहों से छोटा होता है। यह केवल 9 घंटे 55 मिनट में अपनी धुरी के समक्ष एक चक्कर पुरा कर लेता है।

3. बृहस्पति का वायुमंडल बादलों की कई परतों और पेटियो से बना है। हम जो बृहस्पति के चित्र देख पाते हैं वह बृहस्पति के ऊपर स्थित इन बादलों की परतों और पेटियों के ही होते हैं। यह बादल विभिन्न तत्वों की रसायनिक प्रतिक्रियाओ के कारण रंग-बिरंगे नज़र आते हैं।

4. बृहस्पति के बादलों के नीचे इसकी सतह है जो कि ठोस नहीं बल्कि गैसीय है। इस का गैसीय घनत्व गहराई के साथ बढ़ता जाता है।

5. बृहस्पति ग्रह 90% हाईड्रोजन, 10 % प्रतीशत हीलीयम और कुछ कु मात्रा में मीथेन, पानी, अमोनिया और चट्टानी कणों से बना हुआ है।

 Red Eye of Jupiter Planet in hindi

बृहस्पति पर लाल धब्बा – Red Eye of Jupiter Planet

6. बृहस्पति पर पिछले 350 सालों से एक बवंडर चल रहा है जो कि लाल बादलों से बना हुआ है। यह बवंडर इतना बड़ा है कि इसमें तीन पृथ्वीयां समा सकती हैं। चित्रों में देखने पर यह एक धब्बे की तरह नज़र आता है और इसे बृहस्पति की लाल आँख भी कहते हैं। असल में यह एक उच्च दबाव वाला क्षेत्र है जिसके बादल कुछ ज्यादा ही ऊँचे और आसपास के क्षेत्रों से ठंडे है। ऐसे ही कुछ अन्य छोटे-छोटे बवंडर बृहस्पति समेत शनि और नेप्च्चुन पर भी देखे गए हैं। वैज्ञानिक अब तक पता नही लगा पाए कि ये उच्च दबाव के क्षेत्र इतने लंबे समय तक कैसे बने रहते हैं।

jupiter planet moons

बृहस्पति के चार बड़े उपग्रह – आयो, युरोपा, गनीमीड और कैलीस्टो (Image credit – Wikimedia)

7. सन् 1610 में गैलीलीयो ने सबसे पहले बृहस्पति को दूरबीन से देखा था। उसने इस ग्रह के चार सबसे बड़े उपग्रहों – आयो, युरोपा, गनीमीड और कैलीस्टो की खोज की थी। इन उपग्रहों को अब गैलीलीयन उपग्रह कहते हैं। इनमें से गनीमीड उपग्रह सौर मंडल में सबसे बड़ा उपग्रह है जो कि बुद्ध ग्रह से भी ज्यादा बड़ा है।

8. गैलीलीयो ने कई साल लगातार दूरबीन से बृहस्पति पर नज़र रखी थी। उस समय माना जाता था कि पृथ्वी सारे ब्रह्मांण्ड के केंद्र में है और बाकी सभी पिंड पृथ्वी की परिक्रमा कर रहे हैं। परंतु गैलीलीयो ने पाया कि बृहस्पति के उपग्रह लागातर गति कर रहे हैं और कुछ महीनों के लिए दिखना बंद हो जाते हैं। इससे सिद्ध होता था कि बृहस्पति के उपग्रह उसकी परिक्रमा कर रह हैं। इससे यह बात साफ हो गई कि सारे आकाशी पिंड पृथ्वी की परिक्रमा नही कर रहैं हैं। जब गैलीलीयो ने अपनी इस बात को लोगों के सामने रखा तो उन्हें कट्टर ईसाईवाद का विरोध झेलना पड़ा, बाद में उन्होंने सज़ा के डर से माफी मांग ली।

9. अब तक कुल आठ मिशन बृहस्पति पर भेजे गए हैं। पायोनियर 10 सन् 1973 में सबसे पहले भेजा गया था। इसके बाद पायोनियर 11, वायेजर 1 और 2, गैलीलीयो, कासीनी, युलीसीस और न्यु होराईज़न भेजे गए। इनमें से 10 अक्तुबर 1989 को भेजा गया गैलीलीयो यान आठ वर्षों तक बृहस्पति की कक्षा में रहा। गैलीलीयो यान 8 दिसंबर 1995 को बहस्पति की कक्षा में दाखिल हुआ और 21 सितंबर 2003 तक काम करता रहा।

10. कई प्राचीन सभ्यताएँ इस ग्रह के बारे में जानती थी। हिंदू मान्यताओं के अनुसार बृहस्पति देवताओं का गुरू है। रोमनों के अनुसार बृहस्पति शनि ग्रह का बेटा और देवताओं का राजा, ओलंपस के सम्राट तथा रोमन साम्राज्य के रक्षक हैं।

More Planets Facts in Hindi

Tags : Jupiter Planet in Hindi , जुपीटर ग्रह के बारे में

Comments

  1. vishal Raj

    Reply

  2. Ayush Sharma A.S

    Reply

  3. rishi dev chaudhary

    Reply

  4. jyoti patidar

    Reply

  5. shubham mishra

    Reply

  6. Raj chauhan

    Reply

  7. Sazia Hasan

    Reply

  8. pooja pandey

    Reply

  9. Bhagwan meena

    Reply

  10. Tanu

    Reply

  11. prateek tiwari

    Reply

  12. thanu sapre

    Reply

  13. mishka

    Reply

  14. ram singh

    Reply

  15. बेनामी

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!