चीन की विशाल दीवार के बारे में 16 मजेदार बातें – China Wall History in Hindi

China Wall Facts in Hindi – चीन की विशाल दीवार के बारे में रोचक तथ्य

china wall history in hindi

चीन की विशाल दीवार – Great Wall of China

1. चीन की विशाल दीवार पत्थर और मिट्टी से बनी दुनिया की सबसे बड़ी दीवार है जिसे चीन के विभिन्न शाशको द्वारा उत्तरी हमलावरों से सुरक्षा के लिए 5वी सदी ईसा पूर्व से लेकर 16वी सदी तक बनवाया गया।

2. इस दीवार के कुछ हिस्से आपस में जुड़े हुए नहीं है। यदि इसके सभी हिस्सों को आपस में जोड़ दिया जाए तो दीवार की लंम्बाई 8848 किलोमीटर तक पहुँच जाएगी।

3. एक अनुमान के अनुसार इस दीवार को बनाने के लिए 20 से 30 लाख लोगो ने अपना पूरा जीवन लगा दिया।

4. चीन की विशाल दीवार की ऊँचाई हर जगह एक जैसी नही है। इसकी सबसे ज्यादा ऊँचाई 35 फुट है जबकि कुछ जगह से तो 8-9 फुट ही ऊँची है।

5. इसमें दूर से आते शत्रुओं पर निगाह रखने के लिए निरीक्षण मीनारे भी बनाई गई।

6. दीवार की चौड़ाई इतनी रखी गई कि 5 घुड़सवार या 10 पैदल सैनिक बगल-बगल में गश्त लगा सकें।

7. इस दीवार को चीन के लोग ‘वान ली छांग छंग‘ कहते है जिसका अर्थ है ‘चीन की विशाल दीवार’

8. भले ही इस विशाल दीवार का निर्माण विदेशी हमलावरों को रोकने के लिए हुआ था परन्तु सदियों तक इसका उपयोग परिवहन, माल तथा लम्बी यात्रा के लिए भी होता रहा।

9. यह दीवार हमेशा सुरक्षित और अजेय नही रह सकी। कई बार हमलावों ने इस पर विजय प्राप्त की और इस दीवार को तोड़ा। सन् 1211 मे चंगेज़ खां इस दीवार को तोड़कर चीन आया था।

china wall from space in hindi

चीन की विशाल दीवार अंतरिक्ष से

10. यह दीवार लगभग 6400 किलोमीटर लंबी है। यह दीवार इतनी बड़ी है कि इसे अंतरिक्ष से भी देखा जा सकता है। ऊपर दिया चित्र नासा की वेबसाइट से लिया गया है। ध्यान से देखने पर दीवार के कुछ हिस्से दिखाई देते हैं।

11. इस दीवार को बनाने में जो मजदूर लगे थे, उनमें से जो कठोर श्रम नही कर रहे थे उन्हें इस दीवार में ही दफना दिया जाता था। इस लिए इस दीवार को दूनिया का सबसे लंम्बा कब्रिस्तान भी कहते हैं।

12. आप को यह जानकर आश्चर्य होगा कि भारत में भी एक ऐसी दीवार है जो सीधे तौर पर चीन की दीवार को टक्कर देती है। इसे भेदने का प्रयास अकबर ने भी किया था पर सफल ना हो सका। इस दीवार को राजस्थान के कुंभलगढ़ किलो की सुरश्रा के लिए बनाया गया था। इसका निर्माण 1443 में शुरू होकर 1458 में खत्म हुआ।

kumbhlagadh fort wall in hindi

कुंभलगढ़ किले की दीवार

13. कुंभलगढ़ किले की सुरक्षा दीवार की लंम्बाई 36 किलोमीटर है। चीन की दीवार से 588 गुना छोटी होने के बावजूद भी यह दूनिया की दूसरी सबसे बड़ी दीवार है।

14. चीन की विशाल दीवार पर सिर्फ 5 घोड़सवार ही बगल-बगल में चल सकते हैं पर कुंभलगढ़ की दीवार पर 10 घोड़े बगल-बगल में चल सकते हैं।

15. कहते है कुंभलगढ़ की दीवार के निर्माण का काम बंद होने का नाम ही नही ले रहा था। अंततः वहां देवी को प्रसन्न करने के लिए संत की बलि दी गई तब जाकर इस दीवार का निर्माण पूरा हुआ।

16. जिस संत की बलि दी गई थी उसने राजा से कहा था कि उसे चलने दिया जाए और जहां वह रुके वहीं उनकी बलि चढ़ा दी जाए और वहां एक देवी का मंदिर बनाया जाए। कुछ किलोमीटर तक चलने के बाद वह रूक गए और उनकी बल दी गई। जहां पर उनका सिर गिरा वहां मुख्य द्वार है और जहां पर उनका घड़ गिरा वहां दूसरा मुख्य द्वार है।

More Historical Structures Facts in Hindi

Tags : china wall history in hindi, चीन की विशाल दीवार , china wall in hindi

Loading...

Comments

  1. Pawan chaurasiya

    Reply

  2. Junaid mansoori

    Reply

  3. khem raj bhatta

    Reply

  4. khushi kumar

    Reply

  5. Bunty

    Reply

  6. Anu

    Reply

  7. shanu khan

    Reply

  8. anu

    Reply

  9. Jadhav.S .G

    Reply

  10. Babul kumar

    Reply

  11. yuvraj mahiya

    Reply

  12. chotu bana

    Reply

  13. dattatray

    Reply

  14. Agrain Mishra

    Reply

  15. mohit yadav

    Reply

  16. neeraj kumar

    Reply

  17. rohit

    Reply

  18. कुमार संभव चंदेल

    Reply

    • Reply

  19. Sompal bharti

    Reply

    • ntin

      Reply

  20. suraj

    Reply

  21. Amit gaur

    Reply

    • Reply

  22. Paridhi

    Reply

  23. Mor singh yadav

    Reply

  24. Nitu verma

    Reply

  25. Reply

  26. Arjun mishra

    Reply

  27. pavan kumar Dwivedi

    Reply

  28. अली नौशाद

    Reply

  29. Reply

  30. hbnmjj

    Reply

  31. Jitendra Kumar

    Reply

    • Reply

  32. Pranjul shukla

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!